Tuesday , December 19 2017

कैश ट्रांसफ़र स्कीम का 20 अज़ला में आग़ाज़

नई दिल्ली, 02 जनवरी: (पी टी आई) हुकूमत ने आज अपनी नक़द मुंतक़ली फ़ायदा (सी बी पी) स्कीम का क़दरे महिदूद अंदाज़ में क़ौमी दार-उल-हकूमत के दो अज़ला के बिशमोल 20 अज़ला में आग़ाज़ किया जिसका मक़सद ज़रूरतमंद लोगों को नक़द फ़वाइद की फ़राहमी करना है।

नई दिल्ली, 02 जनवरी: (पी टी आई) हुकूमत ने आज अपनी नक़द मुंतक़ली फ़ायदा (सी बी पी) स्कीम का क़दरे महिदूद अंदाज़ में क़ौमी दार-उल-हकूमत के दो अज़ला के बिशमोल 20 अज़ला में आग़ाज़ किया जिसका मक़सद ज़रूरतमंद लोगों को नक़द फ़वाइद की फ़राहमी करना है।

इस पुरअज़म स्कीम की शुरूआत को महिदूद करने के मुदाफ़अत करते हुए मंसूबा बंदी कमीशन के नायब सदर नशीन मोंटेक सिंह अहलुवालिया ने कहा कि ये अच्छी बात है कि इस स्कीम की शुरूआत मरहलावार अंदाज़ में हो रही है। हमें ये दिखाने दीजिए कि टेक्नोलाजी कारगर होती है।

वो रियासतें और मर्कज़ी ज़ेर इंतेज़ाम इलाक़े जहां आज ये स्कीम का आग़ाज़ हुआ, कर्नाटक , आंधरा प्रदेश , दिल्ली , राजस्थान , मध्य प्रदेश और पंजाब और मर्कज़ी ज़ेर ए इंतिज़ाम इलाक़े पडुचेरी, चंडीगढ़ और दमन और देव हैं। दार-उल-हकूमत के दो अज़ला में सी बी टी का आग़ाज़ करते हुए चीफ मिनिस्टर दिल्ली शीला दिक्षित ने कहा कि शहरी हुकूमत मंसूबा बंदी कर रही है कि कैश ट्रांसफ़र पर इस्तिफ़ादा कुनुन्दगान के आधार से मरबूत बैंक खातों के ज़रीया अपनी मुतअद्दिद स्कीमात के लिए अमल आवरी की जाये।

दिक्षित ने इस स्कीम की सताइश करते हुए कहा कि ये स्कीम का मक़सद इस्तिफ़ादा कुनुन्दगान तक मुकम्मल फ़ायदा पहुंचना यक़ीनी बनाया है। हुकूमत ने क़बल अज़ीं यक्म जनवरी से 16 रियासतों के 43 अज़ला में ये स्कीम मुतआरिफ़ कराने की मंसूबा बंदी कर रखी थी।

इस प्रोग्राम को आधार से मरबूत बैंक खातों की कुशादगी में सुस्त पेशरफ़्त के सबब महिदूद करना पड़ा है। हुकूमत सी बी टी को ख़त्म 2013 तक सारे क़ौम में वुसअत देने की तजवीज़ रखती है लेकिन इस स्कीम में एल पी जी , डीज़ल , फ़र्टीलाइज़र और ग़िज़ाई अशिया काफ़ी अलहाल अहाता भी किया जाएगा।

मौजूदा तौर पर सी बी टी ज़्यादा तर एस सी , एस टी और ओ बी सी स्टूडेंट्स को स्कालरशिप से मुताल्लिक़ 7 मर्कज़ी स्कीमात का अहाता करेगी। अहलुवालिया ने कहा कि रियासतों को सी बी टी अपनाने का इख्तेयार दिया जाना चाहीए, मज़ीद ये कि चीफ मिनिस्टर दिल्ली शीला दिक्षित इस स्कीम की शुरूआत के लिए पुरजोश दिखाई दीं।

उन्होंने मज़ीद कहा कि सी बी टी उन खामियों का तदारुक करेगा जो 40 फ़ीसद तक आगे बढ़ गए हैं। जब आधार नंबरों की इजराई और बैंक खातों की कुशादगी में सुस्त पेशरफ़्त के ताल्लुक़ से पूछा गया, अहलुवालिया ने कहा कि ऐसा ज़रूरी नहीं कि हर कोई आधार के तहत ही इस्तिफ़ादा करे लेकिन ये ज़रूरी है कि हर इस्तिफ़ादा कनुंदा का अहाता हो जाए।

उन्होंने ये भी कहा कि 28 करोड़ लोगों को पहले ही यू आई डी ए आई की जानिब से इंदिराज किया जा चुका है और 24 करोड़ कार्ड्स जारी कर दिए गए हैं। दरी असना हुकूमत आंधरा प्रदेश ने कहा है कि वो कैश ट्रांसफ़र स्कीम का अपना मुतबादिल प्रोग्राम यक्म अप्रैल 2013 से शुरू करेगी।

ए पी वज़ीर फायनेंस ए राम नारायण रेड्डी ने कहा है कि हम मुख़्तलिफ़ बहबूदी स्कीमात के लिए यू आई डी से मरबूत सी टी एस पर ग़ौर कर रहे हैं। इससे मुताल्लिक़ अमल जारी है ताकि सी टी एस को लागू किया जा सके और चीफ मिनिस्टर का इस ताल्लुक़ से मुसबत रवैय्या है।

मर्कज़ी वज़ीर देही तरक़्क़ी जय राम रमेश ने रांची में एक तक़रीब से ख़िताब में तयक्कुन दिया कि वो यूनीक आइडेंटीफिकेशन अथॉरीटी आफ़ इंडिया (यू आई डी ए आई) से अपने काम में तेज़ी लाने के लिए कहेंगे। रमेश ने कहा कि नक़दी की रास्त मुंतक़ली वाली स्कीम का ताल्लुक़ आधार नंबरात से है।

और बाअज़ अज़ला में इंदिराज का काम सुस्त है। मैं यू आई डी ए आई हुक्काम से इस ज़िमन में बात करूंगा।

TOPPOPULARRECENT