Tuesday , December 19 2017

कोचिंग अदारों का दावा 400 का, कामयाब हुए 266 तालिबे इल्म

साल 2013 में आइआइटी के 16 अदारों, आइएसएम धनबाद और दीगर अदारों में दाख्ले के लिए मुल्क भर से 20834 नौजवानों ने क्वालिफाइ किया था। इनमें बिहार के 846, मगरीबी बंगाल के 690 और झारखंड के 676 तालिबे इल्म शामिल थे।

साल 2013 में आइआइटी के 16 अदारों, आइएसएम धनबाद और दीगर अदारों में दाख्ले के लिए मुल्क भर से 20834 नौजवानों ने क्वालिफाइ किया था। इनमें बिहार के 846, मगरीबी बंगाल के 690 और झारखंड के 676 तालिबे इल्म शामिल थे।

पटना के इम्तिहान सेंटर के 710 और रांची के इम्तिहान सेंटर से 266 नौजवान कामयाब हुए थे। जेइइ-एडवांस पर ज्वाइंट एडमिशन बोर्ड-13 की रिपोर्ट में इसका खुलासा हुआ है। हालांकि सिर्फ रांची शहर के कोचिंग अदारों ने अपने 400 से ज़्यादा तालिबे इल्म के कामयाब होने का दावा किया है। रांची में आसपास के करीब आठ जिलों के तालिबे इल्म शामिल हुए थे।

पटना तीसरा बड़ा इम्तेहान सेंटर

आइआइटी खड़गपुर के इंजीनियर और मुक़ामी इलाक़े के नुमाइंदे दीपक अंशु से मिली रिपोर्ट के अदाद व शुमार के मुताबिक, पटना मुल्क का तीसरा सबसे बड़ा इम्तेहान सेंटर था, जहां से कुल 6514 तालिबे इल्म शामिल हुए थे। मुल्क में सबसे ज़्यादा तालिबे इल्म जयपुर (9262) और हैदराबाद (7698) में थे। गौरतलब है कि एडवांस-13 के टॉप 100 में शामिल 27, 30 व 99 वें रैंक वाले तालिबे इल्म ने कुछ वजूहात से किसी आइआइटी में एडमिशन नहीं लिया।

TOPPOPULARRECENT