Tuesday , January 23 2018

कोडनकुलम न्यूक्लियर प्रोजेक़्ट में अमेरीकी एन जी ओज़ (N.G.Os) रुकावट

वज़ीर-ए-आज़म मनमोहन सिंह ने आज कहा कि कोडंकुलम न्यूक्लियर प्लांट के ख़िलाफ़ बाअज़ अमेरीकी एन जी ओज़, अवाम को एहतिजाज के लिए उक़्सा रही हैं। इनके तबसिरा पर अमेरीका ने फ़ौरी रद्द-ए-अमल ज़ाहिर करते हुए कहा कि हक़ायक़ का पता चलाया जाएगा जबकि रूस न

वज़ीर-ए-आज़म मनमोहन सिंह ने आज कहा कि कोडंकुलम न्यूक्लियर प्लांट के ख़िलाफ़ बाअज़ अमेरीकी एन जी ओज़, अवाम को एहतिजाज के लिए उक़्सा रही हैं। इनके तबसिरा पर अमेरीका ने फ़ौरी रद्द-ए-अमल ज़ाहिर करते हुए कहा कि हक़ायक़ का पता चलाया जाएगा जबकि रूस ने कहा कि उसे इबतेदा ही से ये शुबा था।

गोहाटी में अमेरीकी निगरान कार ओहदेदार ए पीटर बरलीगा ने कहा कि मनमोहन सिंह के रिमार्कस पर तबसिरा से क़ब्ल हक़ायक़ का जायज़ा लिया जायेगा। रूस के सफ़ीर इलेग्ज़ेंडर कडकन ने नई दिल्ली में कहा कि उसे इबतेदा ही से अमेरीकी एन जी ओज़ के मुलव्वस होने का शुबा रहा है।

वज़ीर-ए-आज़म मनमोहन सिंह ने अमेरीकी साईंस जर्नल को दिए गए एक इंटरव्यू में कहा कि जौहरी तवानाई प्रोग्राम मुश्किलात से गुज़र रहा है और इसकी वजह ग़ैरसरकारी तंज़ीमें (एन जी औज़) हैं। इनका ख़्याल है कि इनमें की अक्सर तंज़ीमों का ताल्लुक़ अमेरीका से है जो हमारे मुल्क में बढ़ती तवानाई की ज़रूरीयात को तस्लीम नहीं करती।

इनका इशारा कोडंकुलम न्यूक्लियर पावर प्लांट की तरफ़ था जहां एक हज़ार मेगावाट के दो न्यूक्लियर री एक्ट्रस क़ायम किए जाने वाले हैं लेकिन एहतिजाज की बिना ये काम ताहाल शुरू नहीं हो सका। मनमोहन सिंह के तबसिरा के बारे में पूछे जाने पर अमेरीकी ओहदेदार बलरीगा ने कहा कि वो इस मुआमले से वाक़िफ़ नहीं हैं लेकिन हक़ायक़ मालूम करने के बाद ही वो तबसिरा कर सकते हैं।

उन्होंने कहा कि अमेरीकी हुकूमत को हिंदूस्तान में किसी न्यूक्लियर प्रोग्राम पर यक़ीनन कोई एतराज़ नहीं रहा। इस दौरान रूस के सफ़ीर इलेग्ज़ेंडर कडकन ने कहा कि हमें शुरू ही से अमेरीकी एन जी ओज़ के रोल पर शुबा रहा। उन्होंने यहां तक कहा कि फ़ोको शीमा सानिहा के 6 माह बाद अचानक एहितजाजियों ने अपनी आवाज़ उठानी शुरू की।

उन्होंने कहा कि छः माह तक ये तंज़ीमें महव ख़ाब थीं और उन्हें दुनिया के महफ़ूज़ तरीन और सबसे बेहतर स्टेशन के ख़िलाफ़ आवाज़ उठाने की ज़रूरत लाहक़ हुई। वाज़िह रहे कि ये दो न्यूक्लियर पावर प्लांटस रूस के इश्तिराक से तामीर किए जा रहे हैं जो प्रोग्राम के मुताबिक़ गुज़श्ता नवंबर में ही कारकर्द हो जाना चाहीए था लेकिन कई माह से अवामी एहतिजाज के बाइस ये काम तात्तुल का शिकार है।

मनमोहन सिंह के तबसिरा के बाद वज़ीर-ए-आज़म और बाअज़ एन जी औज़ के माबैन रवाबित मज़ीद तल्ख़ हो गए हैं। ]

वज़ीर-ए-आज़म के दफ़्तर में मिनिस्टर आफ़ स्टेट वे नारायण सामी ने न्यूक्लियर कारकुन उदय कुमार के स्वीडेन की जानिब से फंड्स फ़राहम करने वाली एन जी ओ से रवाबित के बारे में वज़ाहत तलब की। उन्होंने बताया कि तीन एन जी औज़ को फंड्स की फ़राहमी , वज़ारत-ए-दाख़िला ने मंसूख़ कर दी है।

उदय कुमार ने हुकूमत पर जवाबी तन्क़ीद करते हुए कहा कि इस जद्द-ओ-जहद के राबिता कार की हैसियत से ये उनकी ज़िम्मेदारी है कि दियानतदारी के साथ अपना काम अंजाम दें।

TOPPOPULARRECENT