Monday , December 18 2017

कोयला घोटाले पर सी बी आई और मर्कज़ को सुप्रीम कोर्ट की नोटिसें

सुप्रीम कोर्ट ने आज मर्कज़ और सी बी आई को नोटिसें जारी करदिया । ये नोटिसें एक दरख़ास्त पर जो खास‌ तहक़ीक़ात टीम एस आई टी की तरफ‌ से कोयला बलॉक मुख़तस करने में मुबय्यना बे क़ाईदगियों की तहक़ीक़ात के लिए दाख़िल की गई थी, जारी की गईं । जस्

सुप्रीम कोर्ट ने आज मर्कज़ और सी बी आई को नोटिसें जारी करदिया । ये नोटिसें एक दरख़ास्त पर जो खास‌ तहक़ीक़ात टीम एस आई टी की तरफ‌ से कोयला बलॉक मुख़तस करने में मुबय्यना बे क़ाईदगियों की तहक़ीक़ात के लिए दाख़िल की गई थी, जारी की गईं । जस्टिस आर एम लवधा और ए आर डी वी पर मुश्तमिल एक बेंच ने दरख़ास्त मफ़ाद-ए-आम्मा बराए मुख़्तलिफ़ ख़ानगी कंपनीयों को कोयला ब्लॉक्स मुख़तस करने के हुकूमत की तरफ‌ से लाईसैंस जारी करने के बारे में जवाबतलब किया है

ताहम बेंच ने लाईसैंसों पर हुक्म अलतवा जारी करने से इनकार कर दिया जो मुबय्यना तौर पर क़ानून की ख़िलाफ़वरज़ी करते हुए जारी किए गए थे । अदालत ने हुकूमत और सी बी आई को हिदायत दी कि मुबय्यना बे क़ाईदगियों के बारे में जामि जवाब अंदरून 8 हफ़्ता दाख़िल किया जाये ।

मुक़द्दमे की आइन्दा समाअत 24 जनवरी को मुक़र्रर की गई है । बेंच सियोल सोसाइटी बिशमोल साबिक़ सी ई सी एन गोपालस्वामी ,साबिक़ सरबराह बहरीया एल राम दास और साबिक़ काबीनी सैक्रेटरी टी ऐस आर सुब्रामणियम मुख़्तलिफ़ अरकान की दाख़िल करदा दरख़ास्त मफ़ाद-ए-आम्मा की समाअत कररही थी ।

जिनमें गुज़ारिश की गई थी कि मुबय्यना अस्क़ाम की एस आई टी के ज़रीये तहक़ीक़ात करवाई जाएं । उन अफ़राद ने इल्ज़ाम आइद किया था कि सी बी आई के जारीये तहक़ीक़ात जो मुबय्यना कोयला बलॉक अस्क़ाम के बारे में की जा रही हैं नाकाफ़ी हैं । सिर्फ़ एस आई टी एस मुक़द्दमे में ग़ैर जांबदाराना तहक़ीक़ात करसकती है क्योंकि इस मुक़द्दमे में कई वुज़रा और उन के रिश्तेदारों के नाम भी सामने आए हैं ।

कोयला बलॉक मुख़तस करने के मुबय्यना अस्क़ाम 14 सितंबर को अदालत की ज़ेर निगरानी आए थे जबकि सुप्रीम कोर्ट ने ऐडवोकेट एम एल शर्मा की दरख़ास्त मफ़ाद-ए-आम्मा पर मर्कज़ को हिदायत दी थी कि इस बात की वज़ाहत की जाये कि क्या क़ुदरती वसाइल ख़ानगी कंपनीयों को मुख़तस करने के रहनुमा या ना ख़ुतूत की सख़्ती से पाबंदी की जा रही है ।

अदालती निगरानी के दायरे कार में तौसीअ करते हुए बेंच ने आज सी बी आई को एक नोटिस जारी करदी और वज़ाहत तलब की कि तहक़ीक़ात केलिए ऐस आई टी का तक़र्रुर क्यों ना किया जाये और मुख़्तलिफ़ कंपनीयों को मुख़तस किए हुए 194 कोयला ब्लॉक्स मंसूख़ क्यों ना किए जाएं जो मर्कज़ ने 1993 के बाद मुख़तस किए थे ।

सीनीयर वुज़रा ,सरकारी मुलाज़मीन ,मर्कज़ के मुख़्तलिफ़ महिकमों और मुताल्लिक़ा रियास्ती हुकूमतों के मुबय्यना करप्शन और रिश्वतखोरी में मुलव्वस होने के बारे में तहक़ीक़ात की ज़रूरत है । दरख़ास्त में कहा गया है कि तहक़ीक़ात की शिद्दत और आली सतही सरकारी ओहदेदारों बिशमोल दफ़्तर वज़ीर-ए-आज़म के ओहदेदारों के मुलव्वस होने के अंदेशों के तहत क्यों ना एस आई टी से तहक़ीक़ात करवाई जाएं ।

TOPPOPULARRECENT