Monday , December 11 2017

कोयला ब्लॉक्स पर सी ए जी रिपोर्ट से पार्लीमेंट दहल गई

कोयला ब्लॉक्स मुख़तस करने पर सी ए जी की रिपोर्ट से आज पार्लीमेंट दहल गई जबकि अप्पोज़ीशन ने वज़ीर-ए-आज़म(प्रधान मंत्री) मनमोहन सिंह के इस्तीफ़ा का मुतालिबा करते हुए कार्रवाई में ख़लल अंदाज़ी (रोकावट)पैदा की क्योंकि जिस वक़्त कोयल

कोयला ब्लॉक्स मुख़तस करने पर सी ए जी की रिपोर्ट से आज पार्लीमेंट दहल गई जबकि अप्पोज़ीशन ने वज़ीर-ए-आज़म(प्रधान मंत्री) मनमोहन सिंह के इस्तीफ़ा का मुतालिबा करते हुए कार्रवाई में ख़लल अंदाज़ी (रोकावट)पैदा की क्योंकि जिस वक़्त कोयला ब्लॉक्स मुख़तस किए गए थे, वज़ीर-ए-आज़म(प्रधान मंत्री) वज़ारत कोयला का क़लमदान भी सँभाले हुए थे,

इसी दौरान कोयला ब्लॉक्स मुख़तस करने में मुबय्यना तौर पर बे क़ाईदगीयाँ पेश आई थीं। लोक सभा आज कोई कार्रवाई नहीं कर सकी क्योंकि ऐवान में हंगामा के मुनाज़िर देखे जा रहे थे। सब से पहले दोपहर तक के लिए और बादअज़ां(उसके बाद) दिन भर के लिए इजलास मुल्तवी (रद्द ) करदिया गया। राज्य सभा में कार्रवाई कुछ वक़्त के लिए जारी रही, जिस के दौरान कांग्रेस के क़ाइद पी जे कोरियन को नायब सदर नशीन राज्य सभा मुत्तफ़िक़ा तौर पर मुंतख़ब किया गया।

बादअज़ां(उसके बाद) शोर-ओ-गुल के दौरान कार्रवाई मुल्तवी (रद्द ) करदी गई। लोक सभा का इजलास जैसे ही शुरू हुआ बी जे पी, जनतादल (यू), समीकता अकाली दल, शिवसेना और बी जे डी के बिशमोल अप्पोज़ीशन पार्टीयों ने ऐवान के वस्त में जमा होकरवज़ीर-ए-आज़म(प्रधान मंत्री) के इस्तीफ़ा का मुतालिबा किया। ऐवान का इजलास शुरू होते ही बी जे पी की ज़ेर-ए-क़ियादत एन डी ए ने वज़ीर-ए-आज़म(प्रधान मंत्री) के इस्तीफ़ा का मुतालिबा किया।

बाएंबाज़ू की पार्टीयां चाहती थी कि सी ए जी की तीन रिपोर्टस पर अपना मौक़िफ़ ज़ाहिर करे।शोर-ओ-गुल के दरमयान समाजवादी पार्टी जो यू पी ए हुकूमत को बाहर से ताईद फ़राहम कर रही है, एहतिजाज करते हुए वज़ीर स्टील बीनी प्रसाद वर्मा के इफ़रात-ए-ज़र के बारे में तबसरा को नामुनासिब क़रार दिया।

बीनी प्रसाद वर्मा ने जो समाजवादी पार्टी से तर्क-ए-ताल्लुक़ करके कांग्रेस में शामिल होगए हैं, मुबय्यना तौर पर कहा था कि ग़िज़ाई अजनास का इफ़रात-ए-ज़र(Inflation) अच्छी चीज़ है इस से काश्तकारों को फ़ायदा पहुंचेगा। सदर नशीन राज्य सभा हामिद अंसारी ने अरकान से बार बार पुरसुकून होजाने की अपील की, जो रायगां (बेकार)गई।चुनांचे उन्हों ने इजलास दोपहर तक के लिए मुल्तवी (रद्द )करदिया।

ऐवान के इजलास का दुबारा आग़ाज़ होते ही ऐवान पुरसुकून था। चुनांचे कोरियन को मुत्तफ़िक़ा तौर पर नायब सदर नशीन मुंतख़ब करलिया गया। वज़ीर-ए-आज़म(प्रधान मंत्री) मनमोहन सिंह ने कोरियन के नाम की इस ओहदा के लिए तजवीज़ पेश की, जिस की ताईद क़ाइद अप्पोज़ीशन अरूण जेटली ने की और दूसरा कोई उम्मीदवार मुक़ाबला में ना होने की बिना पर उन्हें मुत्तफ़िक़ा तौर पर मुंतख़ब करलिया गया।

ये बरसर-ए-इक़तिदार यू पी ए और अप्पोज़ीशन एन डी ए के दरमयान ख़ैरसिगाली का बेमिसाल मुज़ाहरा था। बादअज़ां(उसके बाद) वज़ीर-ए-आज़म(प्रधान मंत्री) और अरूण जेटली ने कोरियन को उन की नशिस्त तक पहुंचाया। ताहम कोरियन ने जैसे ही कार्रवाई का आग़ाज़ करते हुए मुबाहिस जारी रखने की हिदायत दी जो तहफ़्फ़ुज़ वज़ल बलवीरस बल पर जारी थे।

अप्पोज़ीशन अरकान अपनी नशिस्तों से उठ कर खड़े होगए और नारा बाज़ी शुरू करदी, जिन में प्रधान मंत्री जवाब दो और घोटालों की सरकार नहीं चलेगी, जैसे नारे शामिल थे।

हुकूमत ने जवाबी रद्द-ए-अमल ज़ाहिर करते हुए मर्कज़ी वज़ीर बराए पारलीमानी उमूर पी के बंसल और वुज़राए ममलकत राजीव शुक्ला और वे नारायण स्वामी ने कहा कि हुकूमत मुबाहिस केलिए तैय्यार है लेकिन अप्पोज़ीशन इस से गुरेज़ कररही है। शोर-ओ-गुलके जारी रहने पर कोरियन ने इजलास आज दिन भर केलिए मुल्तवी (रद्द ) करदिया।

TOPPOPULARRECENT