Thursday , November 23 2017
Home / India / कोर्ट ने माना- येदियुरप्पा पर आरोप साबित करने में नाकाम रही सीबीआई

कोर्ट ने माना- येदियुरप्पा पर आरोप साबित करने में नाकाम रही सीबीआई

बेंगलुरु: कर्नाटक के पूर्व मुख्यमंत्री येदियुरप्पा पर आरोप था कि उन्होंने डिप्टी सीएम रहते हुए 2006 में एक एकड़ सरकारी जमीन को डिनोटिफाई कर दिया, जिससे कि जमीन एसएन कृष्णैया शेट्टी की हो गई और उन्होंने बाद में जमीन को येदियुरप्पा के बेटों को 20 लाख रुपये में बेच दिया. आरोप था कि उनके बेटों ने फर्जी कागजात के आधार पर जमीन लिए. बाद में उन्होंने ये जमीन 20 करोड़ रुपये में जेएसडब्ल्यू स्टील को बेच दी.

बीएस येदियुरप्पा, उनके दो बेटों और परिवार के कुछ अन्य सदस्यों को सीबीआई की एक विशेष अदालत ने बुधवार को भ्रष्टाचार के विभिन्न मामलों में बरी कर दिया. लेकिन अदालत ने अपने फैसले में सीबीआई की जांच पर सवाल भी उठाए और कहा कि वह आरोप साबित करने में नाकाम रही.

Facebook पे हमारे पेज को लाइक करने के लिए क्लिक करिये

आज तक के ख़बरों के अनुसार, कोर्ट ने कहा कि जमीन को डिनोटिफाई 2004 में कांग्रेस के शासनकाल में ही किया गया था, हालांकि, उनके बाद धरम सिंह की सरकार ने इसे कैंसिल कर दिया था. लेकिन सीबीआई ये साबित नहीं कर सकी कि येदियुरप्पा के बेटों ने जाली कागजात के आधार पर जमीन लिए.
येदियुरप्पा के बेटों पर यह भी आरोप था कि उन्होंने गैर कृषि क्षेत्र से 2 लाख रुपये से अधिक की सालाना आय होने के बावजूद भी उन्होंने इसे कम दिखाया, ताकि खेती के नाम पर प्लॉट ले सकें. कोर्ट ने इस आरोप को भी खारिज कर दिया और कहा कि 2005-06 से पहले यदियुरप्पा के बेटों की आय कम थी.
जमीन से जुड़े एक और मामले में भी कोर्ट ने कहा कि सीबीआई ये साबित करने में नाकाम रही कि येदियुरप्पा के दबाव में जमीन का हस्तानांतरण किया गया.

TOPPOPULARRECENT