Tuesday , December 12 2017

कोलकाता करेंसी प्रिंटिंग प्रेस में नए नोट जल्दी छापने में कर्मचारी कर रहे आनाकानी

कोलकाता: नोटबंदी से देश में आई कैश की कमी के चलते रिज़र्व बैंक ऑफ़ इंडिया अपनी चारों प्रिंटिंग प्रेस में तेजी से काम करवा रहा है ताकि इस समस्या जल्द दूर किया जा सके और देश के लोग चैन की सांस ले सके। लेकिन आरबीआई की पश्चिम बंगाल वाली करेंसी प्रिंटिंग प्रेस से ऐसी खबर सामने आ रही है जोकि देश की जनता के हित में नहीं है और लोगों की परेशानी बढाने का काम कर सकती है। इस प्रेस के कर्मचारियों का कहना है कि नोटबंदी के बाद से हम 9 घंटे से ज्यादा काम कर रहे थे ताकि नोटों की छपाई जल्दी हो सके लेकिन आज से ओवरटाइम नहीं करेंगे।

जिसके पीछे की वजह कर्मचारियों की एसोशिएसन ने प्रेस प्रबंधन को ये दी है कि 14 दिसंबर के बाद से हमारे कर्मचारी ओवरटाइम कर रहे हैं जिस कारण वे बीमार पड़ गए हैं।  उनका कहना है कि कर्मचारियों को 12 घंटे तक काम करने के लिए मजबूर किया गया है। आपको बता दें कि सालबोनी की करेंसी प्रेस में तकरीबन 700 कर्मचारी काम करते हैं और यहाँ प्रेस प्रबंधन नोटबंदी के बाद से यहाँ 9 घंटे की जगह  12-12 घंटे की दो शिफ्टों में नोटों की छपाई का काम करवा रहा है। एसोसिएशन का कहना है जहाँ १२ घंटे की दो शिफ्टों में करोड़ 80 लाख नोट छप रहे थे वहां 9 घंटे की शिफ्ट होने के बाद सिर्फ 3 करोड़ चालीस लाख नोट ही छप सकेंगे।

TOPPOPULARRECENT