कोलकाता के इन दो मस्जिदों में महिलाएं भी पढ़ सकेंगी नमाज़, मिलेगी इजाज़त, किए जाएंगे खास इंतज़ाम

कोलकाता के इन दो मस्जिदों में महिलाएं भी पढ़ सकेंगी नमाज़, मिलेगी इजाज़त, किए जाएंगे खास इंतज़ाम

कोलकाताः  कोलकाता में दो ऐतिहासिक मस्जिदों नखोदा मस्जिद और टीपू सुल्तान मस्जिद महिलाओं के नमाज पढ़ने के लिए खास इंतज़ाम करने जा रहा है. इन दोनों मस्जिदों में महिलाओं के लिए अलग से हॉल होगा, जहां वो नमाज़ अदा कर सकेंगी. इसके अलावा मस्जिद में आने-जाने के लिए अलग से दरवाजा होगा. साथ ही अलग शौचालय की व्यवस्था भी की जाएगी..

बंगाल इमाम एसोसिएशन की लिखित मांग के बाद दोनों मस्जिदों की कमेटियां महिलाओं के लिए अलग से ये सुविधाएं उपलब्ध कराएंगी. बता दें कि नखोदा मस्जिद को बादी मस्जिद के नाम से भी जाना जाता है.

इंडियन एक्सप्रेस के मुताबिक  मस्जिद के इमाम शफीक कासमी ने इस बात की पुष्टी की. उन्होंने कहा, ”हमें इस संबंध में पत्र मिला है. प्रबंध समिति महिलाओं के लिए बेहतर व्यवस्था करेगा. कई महिलाएं मस्जिद में नमाज अदा करने आती हैं.

उन्होंने कहा, ”नखोदा मस्जिद में प्रवेश के लिए तीन दरवाजे हैं. इनमें से कोई भी दरवाजा महिलाओं के प्रवेश के लिए आरक्षित नहीं है. अब महिलाओं के लिए एक अलग स्थान पर बैठने, नमाज अदा करने जैसी बाकी सुविधाओं का विस्तार किया जाएगा.”

बंगाल इमाम एसोसिएशन (बीआईए) ने कहा, ”हमने देखा है कि महिलाओं के लिए इन दो प्रसिद्ध मस्जिदों में नमाज अदा करने की कोई अलग  व्यवस्था नहीं है. महिलाएं मस्जिद में नमाज़ अदा कर सकें, इसलिए शरिया के अनुसार वहां परदे का इंतज़ाम किया जाएगा. विदेशी महिलाएं इन मस्जिदों में जाती हैं, लेकिन वर्तमान परिस्थितियों में यहां प्रार्थना नहीं कर सकती हैं. इसलिए काफी विचार-विमर्श के बाद हमने दोनों मस्जिदों को एक पत्र भेजने का फैसला किया.’

मस्जिद में महिलाओं के लिए अलग से इंतजाम को लेकर कोलकाता नगर निगम को जानकारी भेज दी गई है. नगर निगम को बताया गया है कि वह इन दोनों मस्जिदों में महिलाओं और दिव्यांगजनों के लिए अलग सुविधा मुहैया करवाए.

गौरतलब है कि दोनों मस्जिदें काफी पुरानी हैं. टीपू सुल्तान मस्जिद को साल 1842 में प्रिंस गुलाम मोहम्मद ने बनवाया था. प्रिंस गुलाम मोहम्मद टीपू सुल्तान के सबसे छोटे बेटे थे. नखोड़ा मस्जिद बनने की शुरुआत साल 1926 में हुई थी.

Top Stories