Monday , December 11 2017

कोलकाता: मानसिक रोगियों के साथ अस्पताल में अमानवीय व्यवहार

कोलकाता: भारत के एक सरकारी अस्पताल में दर्जनों मानसिक रोगी नग्न और गंदगी में लिपटे हुए पाए गए हैं। इन रोगियों के शरीर और बिस्तर कीड़े से आटे हुए थे।

पश्चिम बंगाल की राजधानी कोलकाता में कल्याणकारी संस्था ‘अंजलि मेंटल हेल्थ राइट्स’ की संस्थापक रत्न बोलीरे ने समाचार एजेंसी एएफपी को बताया कि उनके कार्यकर्ताओं ने अस्पताल के एक दौरे में उनके मानसिक रोगियों को नग्न अवस्था में जमीन पर सोते हुए पाया क्योंकि उनके बेड में कीड़े पड़े हुए थे। रत्न बोलीरे का कहना था, कि ” तस्वीरें सच्चाई को पूरी तरह ज़ाहिर नहीं करतीं। इन रोगियों के शरीर से उठने वाली बदबू असहनीय थी और यह मानवता का अपमान है। ”

कल्याणकारी संस्था के प्रमुख का यह भी कहना था कि एक वार्ड में कम से कम बीस महिलायें नग्न हालत में फर्श पर सो रही थीं क्योंकि उनके बिस्तर कीड़ों से भरे थे। उन्होंने बताया कि यहां आने वाले अधिकांश रोगियों का संबंध पिछड़े परिवारों से होता है।

रत्न बोलीरे ने कहा कि बरहमपर मेंटल अस्पताल में करीब चार सौ मरीज रहते हैं और वह यहां की खराब स्थिति से संबंधित अधिकारियों को कई बार पत्र लिख चुकी हैं लेकिन उनकी सुनवाई नहीं हुई इसलिए अब उनके संगठन ने इन रोगियों की तस्वीरें सोशल मीडिया पर पोस्ट कर दी हैं। रे ने कहा, कि ” हमने बड़े अधिकारियों को कई बार इन मानसिक रोगियों से अस्पताल में किए गए दुर्व्यवहार की शिकायत की लेकिन हमें कोई जवाब नहीं मिला। ”

चिकित्सा पत्रिका दी नुकीला और कई अन्य मेडिकल जरनलज़ में प्रकाशित हुए अध्ययनों से पता चलता है कि भारत में मानसिक रोगियों की बहुत कम संख्या को इलाज की उचित सुविधाएं मयस्सर हो पाती हैं। इन मानसिक रोगियों को अक्सर भेदभाव और दुर्व्यवहार का सामना करना पड़ता है क्योंकि उनके घर वाले मानसिक विकलांगता को उनके पिछले जीवन के पापों का परिणाम मानते हैं।

TOPPOPULARRECENT