Saturday , July 21 2018

कौनसी सी बर्बादी और तबाही के इंतज़ार में हो : अकबरुद्दीन ओवैसी

पटना : एआईएमआईएम के लीडर अकबरुद्दीन ओवैसी ने किशनगंज के कोचाधामन में रैली को खिताब किया, जिसमें उन्होंने गुजरात से लेकर मुंबई और मुज़फ्फरनगर दंगों और बिसाहड़ा की वारदात का ज़िक्र करते हुए हिमायत मांगा। कहा, “तो आख़िर बताओ कि तुम कौन सी बर्बादी और तबाही के इंतजार में हो.” अकबरुद्दीन ओवैसी के इन तक़रीरों पर तालियाँ तो बज़ीं लेकिन उनके मुक़ामी मुद्दे और मसायलों की अनदेखी से मुक़ामी आवाम मायूस भी दिखी।

रैली में आए लोगों को यह उम्मीद थीं कि ओवैसी तालीम के मामले में सबसे पसमानदा मुसलमानों पर भी कुछ बात करें। रैली में मौजूद डॉक्टर शमीम अख़्तर का कहना था, “तालीम तरक्की की पहली शर्त है लेकिन आज़ादी के बाद यहाँ के ज़्यादातर मुस्लिम रहनुमाओं ने लोगों की तालीम पर दिलचस्पी नहीं दिखाई, नतीजतन सीमांचल आज मुल्क के कुछ सबसे पसमानदा इलाकों में शामिल किया जाता है। ”
वहीं किशनगंज में स्कूल चलाने वाले तफीम कहते हैं, “ हमने तकरीबन तमाम सियासी पार्टियों को आज़मा कर देख लिया, लेकिन सीमांचल की किस्मत नहीं बदली, ऐसे में ओवैसी को मैं एक बार मौका देने की वकालत करता हूँ। ”

हालांकि कई लोग यह सवाल भी उठाते हैं कि एआईएमआईएम और उसके लीडर तो इस इलाके में कहीं नहीं थे तो अचानक इंतिख़ाब में आ जाना क्या मौकापरस्ती नहीं है? इस सवाल पर मशीरियाज़ कहते हैं, “जहाँ तक वोट करने की बात है तो हम मुक़ामी पार्टियों को ही तरज़ीह देगें क्योंकि ओवैसी और उनकी पार्टी हैदराबाद से हैं ऐसे में वह पहले हैदराबाद की तरक़्क़ी करेंगे कि हमारे इलाके की? ”

 

बा शुक्रिया बीबीसी हिन्दी डॉट कॉम 

TOPPOPULARRECENT