Thursday , April 26 2018

कौन हैं हजरत अली ? कैसे बने वो मुसलमानों के खलीफा?

मुसलमानों के चौथे खलीफा के रूप में जाने जाते हैं हजरत अली, इनका असली नाम है अली इंबे अबी तालिब. कल  हजरत अली का जन्मदिन था .इस  दिन सभी मुसलमान एक-दूसरे हजरत अली के जन्मदिन की बधाई देते हैं और उनके द्वारा कहे गए वचनों को याद करते हैं. हजरत अली लोगों को शांति और अमन का पैगाम दिया करते थे. वह आवाम तक अपने शद्बों से बताया करते थे कि इस्लाम कत्ल और भेदभाव करने के पक्ष में नहीं, अपने शत्रु से प्रेम करो इससे वो एक दिन मित्र बन जाएगा. उनका कहना है कि अत्याचार करने वाला ही नहीं उसमें सहायता करने वाला और अत्याचार से खुश होने वाला सभी अत्याचारी ही हैं.

हजरत अली के जन्मदिन के दिन इस्लाम धर्म से जुड़े लोग अपने घरों को सजाते हैं, सभी दोस्तों और परिवार वालों के साथ मिलकर दावत खाते हैं. साथ ही हजरत अली के किस्सों को एक-दूसरों को सुनाते हैं. इनका जन्मदिन सिर्फ भारत या पाकिस्तान में ही नहीं बल्कि पूरे विश्व में मनाया जाता है. यहां जानें हजरत अली से जुड़ी कुछ बेहद ही खास बातें.

1. हजरत अली का जन्म सउदी अरब में स्थित मक्का शहर में हुआ. उनके पिता का नाम अबु तालिक और माता का नाम फातिमा बिंत असद था. और, वह मक्का मदीना में पैदा हुए एकलौते व्यक्ति हैं.
2. हजरत अली को पहला मुस्लिम वैज्ञानिक भी माना जाता है, क्योंकि वह आम लोगों पर विज्ञान से जुड़ी जानकारियों को बहुत ही रोचक ढंग से पहुंचाया करते थे.
3. हजरत अली सुन्नी समुदाय के आखिरी राशिदून और शिया समुदाय के पहले इमाम थे.
4. वह खाने में हमेशा जौ की रोटी और नमक या फिर दूध खाते थे.
5. नमाज़ के दौरान हजरत अली की हत्या की गई थी, बावजूद उसके उन्होंने अपने कातिल को माफ करने की बात

निचे पढ़ें हजरत अली द्वारा कहे गए 15 अनमोल वचन, जिन्हें पढ़कर आप भी उनकी शख्सियत को सराहने लगेंगे. 

नेक लोगों की सोहबत से हमेशा भलाई ही मिलती है क्योंकि
हवा जब फूलों से गुज़रती है तो वो भी खुशबुदार हो जाती है
हज़रत अली
________________________

चुगली करना उसका काम होता है
जो अपने आप को बेहतर बनाने में असमर्थ होता है
हज़रत अली
________________________

कभी भी किसी के पतन को देखकर खुश मत हो
क्योंकि तुम्हें पता नहीं है भविष्य में तुम्हारे साथ क्या होने वाला है
हज़रत अली
________________________

सूरत और सीरत (चरित्र) में सबसे बड़ा फर्क ये है कि
सूरत धोखा देती है जबकि सीरत पहचान करवाती है
हज़रत अली
________________________

आज का इंसान सिर्फ दौलत को खुशनसीबी समझता है
और ये ही उसकी बदनसीबी है
हज़रत अली
________________________

 शरीर की पुष्टि भोजन है
जबकि आत्मा की पुष्टि दूसरों को भोजन करानें में है
हज़रत अली
________________________

जो दुनिया में विश्वास रखता है
दुनिया उसे धोखा देती है
हज़रत अली
________________________

सब्र से जीत तय हो जाती है
हज़रत अली
________________________

महान व्यक्ति का सबसे अच्छा काम होता है
माफ कर देना और भुला देना
हज़रत अली
________________________

कम खाने में सेहत है
कम बोलने में समझदारी है
और कम सोने में इबादत है
हज़रत अली
________________________

जिसको तुमसे सच्चा प्रेम होगा
वह तुमको व्यर्थ और नाजायज़ कामों से रोकेगा
हज़रत अली
________________________

मुसीबतों से दुखी ना हो
क्योंकि दुखी होना मूर्खों का काम है
हज़रत अली
_______________________

ज़िल्लत उठाने से बेहतर है तकलीफ उठाओ
हज़रत अली
________________________

इख्तियार ,ताकत और दौलत ऐसी चीजें हैं जिनके मिलने से लोग बदलते नहीं बेनकाब होते हैं
हज़रत अली
________________________

अगर दोस्त बनाना तुम्हारी कमज़ोरी है
तो तुम दुनिया के सबसे ताकतवर इंसान हो
हज़रत अली
________________________

TOPPOPULARRECENT