Monday , December 11 2017

कौमी एकता दल को लेकर अखिलेश-शिवपाल के बीच का अंतर्कलह फिर उभरा

लखनऊ। चुनाव करीब है और
समाजवादी पार्टी में सब कुछ ठीक नहीं । यहाँ तक कि चाचा भतीजे के रिश्ते भी अब तक नहीं सुधरे हैं। एक बार फिर उनके बीच का अंतर्कलह उभर कर सामने आ गया। अवसर था कानपुर में आयोजित एक कार्यक्रम । इसमें जहाँ चाचा शिवपाल यादव ने मुख़्तार अंसारी के कौमी एकता दल के सपा में विलय की बात कही। बोलने की बारी आने पर मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने ऐलान कर दिया कि किसी भी कीमत पर मुख्तार अंसारी पार्टी का हिस्सा नहीं बन पाएंगे।
बता दें कि कौमी एकता दल के सपा में विलय को लेकर एक समय चाचा भतीजे के रिश्तेर इतने कटु हो गए थे कि शिवपाल यादव ने पार्टी छोड़ने तक की धमकी दे दी थी। इसपर पार्टी मुखिया को हस्तक्षेप करना पड़ा था। उसके बाद दोनों की मुख्यमंत्री आवास पर बंद कमरे में लंबी गुफ्तगू हुई थी। इसके बाद लगा कि उनके बीच रिश्ता सुधर गए हैं । मुख़्तार अंसारी के दल को सपा में शामिल करने को लेकर उनके दरम्यान की जिच भी खत्म हो गई है। मगर वक्त बीतने के साथ फिर अहसास होने लगा है कि चाचा भतीजे की फाँस आज भी मुख़्तार अंसारी की पार्टी बानी हुई है। शिवपाल ने तो कानपुर के कार्यक्रम में यहाँ तक कह दिया कि सपा में कौमी एकता दल के संबंध में मुलायम सिंह से बात हो गई है।
फिर इसी मंच से अखिलेश का यह कहना कि मुख्तार अंसारी सपा का हिस्सा नहीं बनेंगे, बताता है कि उनके बीच सब कुछ अभी भी सामान्य नहीं है। अखिलेश ने यहाँ कह दिया कि किसी भी अपराधी प्रवृत्ति के व्यक्ति को टिकट नहीं दिया जाएगा।

यूपी से मलिक असग़र हाशमी

TOPPOPULARRECENT