Tuesday , September 25 2018

क्या राजस्थान में टूट जाएगी भाजपा, कांग्रेस में शामिल होना चाहते हैं कई विधायक

राजस्थान में दो लोकसभा और एक विधानसभा सीट पर उप चुनाव के साथ ही स्थानीय निकाय एवं पंचायत उप चुनाव में मिली जीत से उत्साहित कांग्रेस में शामिल होने के लिए अन्य दलों के नेताओं की कतार लगी है। भाजपा, बसपा और राजपा विधायकों ने कांग्रेस प्रदेशाध्यक्ष सचिन पायलट से संपर्क साधा है।

राजस्थान की वसुंधरा राजे सरकार के एक संसदीय सचिव अपने समर्थकों के साथ कांग्रेस में शामिल होना चाहते हैं। संसदीय सचिव ने सचिन पायलट से संपर्क किया है। हालांकि, पायलट की ओर से अभी तक इसको कोई ठोस आश्वासन नहीं मिला है। वह अपने साथ जिला परिषद एवं पंचायत समितियों के आधा दर्जन सदस्यों को भी कांग्रेस में लाना चाहते हैं। संसदीय सचिव ने पायलट तक यह संदेश भी पहुंचाया है कि यदि विधानसभा चुनाव में टिकट की गारंटी मिले तो वे अपने साथ एक अन्य विधायक को भी लाने का प्रयास कर सकते हैं। इस विधायक का भाजपा में किरोड़ीलाल मीणा के शामिल होने के बाद से पार्टी से मोहभंग हो गया है

कांग्रेस के एक वरिष्ठ नेता के अनुसार राष्ट्रीय जनतांत्रिक पार्टी (राजपा) के विधायक नवीन पिलानीया और बसपा विधायक मनोज न्यागली भी कांग्रेस में शामिल होना चाहते हैं। इन दोनों विधायकों ने भी पार्टी नेतृत्व से संपर्क कर टिकट की इच्छा जताई है। दोनों ही विधायकों ने टिकट मिलने पर जीत पक्की होने की बात कही है। राजपा के प्रदेश अध्यक्ष किरोड़ीलाल मीणा और दो अन्य विधायकों के भाजपा में शामिल होने के बाद पिलानीया कांग्रेस में शामिल होने को लेकर अधिक उत्सुक हैं।

पिलानीया का कहना है कि भाजपा में तो जाना नहीं था। कांग्रेस में शामिल होने को लेकर समर्थकों के साथ विचार-विमर्श चल रहा है। एक निर्दलिय विधायक राजकुमार शर्मा कांग्रेस में शामिल होने को लेकर लंबे समय से प्रयास कर रहे हैं। वे सचिन पायलट एवं अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी के महासचिव अशोक गहलोत से कई बार मुलाकात कर चुके हैं। राजकुमार शर्मा नवलगढ़ से लगातार दूसरी बार निर्दलिय विधायक चुने गए हैं। अन्य दलों के नेताओं के कांग्रेस में शामिल होने के प्रयासों को लेकर सचिन पायलट का कहना है कि कुछ नेता मिले और कुछ ने संपर्क साधा है, लेकिन अभी कोई ठोस बात नहीं हुई है।

TOPPOPULARRECENT