Monday , June 18 2018

क्या लियाकत ख़ुद सुपुर्दगी करना चाहता था

श्रीनगर, नई दिल्ली, 23 मार्च ( पी टी आई ) अस्करी तंज़ीम अलबदर का मुबय्यना साबिक़ दहशतगर्द सैयद लियाकत शाह क्या कश्मीर पुलिस के सामने हथियार डालने जा रहा था जब दिल्ली पुलिस ने उसे दिल्ली में हमलों की साज़िश के इल्ज़ाम में गिरफ़्तार कर ल

श्रीनगर, नई दिल्ली, 23 मार्च ( पी टी आई ) अस्करी तंज़ीम अलबदर का मुबय्यना साबिक़ दहशतगर्द सैयद लियाकत शाह क्या कश्मीर पुलिस के सामने हथियार डालने जा रहा था जब दिल्ली पुलिस ने उसे दिल्ली में हमलों की साज़िश के इल्ज़ाम में गिरफ़्तार कर लिया ? । दिल्ली पुलिस के ख़ुसूसी कमिशनर एस एन श्रीवास्तव ने उसकी गिरफ़्तारी का ऐलान किया ताहम जम्मू-ओ-कश्मीर में हुक्काम इस से नाराज़ हो गए हैं और वो ये मसला मरकज़ी वज़ारत-ए-दाख़िला से रुजू करने का मंसूबा बना रहे हैं।

दिल्ली पुलिस ने लियाकत को हिज़्बुल-मुजाहिदीन का रुकन क़रार दिया है ताहम कहा गया है कि उसकी वापसी से जम्मू-ओ-कश्मीर का मुक़ामी इंतेज़ामीया बिशमोल फ़ौज भी वाक़िफ़ थी । कश्मीर में सरकारी ज़राए ने ये बात बताई । रियासती हुकूमत का मरकज़ी वज़ारत-ए-दाख़िला से ये मुआहिदा है कि 1990 की दहाई में सरगर्म दहशतगर्द अगर नेपाल के रास्ते हिंदूस्तान में दाख़िल हों और वो फौजिया पुलिस के आगे ख़ुद सुपुर्द कर दें तो उन्हें उसकी इजाज़त होगी ।

इस तरह कई नौजवान हथियार डाल चुके हैं और ख़ुद लियाकत के अफ़राद ख़ानदान ने भी रियासत में हुक्काम से इस सिलसिला में राबिता कर लिया था ताहम अब उसे दिल्ली पुलिस ने हिज़्बुल-मुजाहिदीन का दहशतगर्द क़रार देते हुए गिरफ़्तार कर लिया है । कहा गया है कि जम्मू-ओ-कश्मीर में रियासती हुक्काम ने लियाकत को बराह नेपाल हिंदूस्तान आने में मदद करने का तयक्कुन दिया था ।

इसके अफ़राद ख़ानदान मुक़ामी सतह पर हुक्काम से राबते में थे । सरकारी ज़राए ने दिल्ली पुलिस के तर्ज़ ए अमल पर अफ़सोस का इज़हार किया है और कहा कि इस गिरफ़्तारी के नतीजा मीना ब दूसरे नौजवान इस रास्ता से हिंदूस्तान आने और हथियार डालने से गुरेज़ कर सकते हैं।

ज़राए ने कहा कि लियाकत को एक और साथी अरशद मीर और आठ अफ़राद ख़ानदान के साथ गिरफ़्तार किया गया है लेकिन दिल्ली पुलिस ने सिर्फ़ लियाकत की गिरफ़्तारी का आलान किया है । इस से कई घंटों तक मुसलसल पूछताछ की गई है ।

TOPPOPULARRECENT