Friday , December 15 2017

क्या सोनीया गांधी को दिल्ली की किसी भी इमारत को मुनहदिम करवाने का हक़ है? : केजरीवाल

नई दिल्ली, 08 दिसंबर: (एजेंसी) आम आदमी पार्टी (AAP) क़ाइद अरविंद केजरीवाल और दीगर कई अफ़राद को वज़ीर-ए-आला शीला दीक्षित की रिहायश गाह के बाहर उस वक़्त गिरफ़्तार कर लिया गया जब वो जुनूबी दिल्ली के एक इलाक़ा ही इमारतों के इन्हिदाम के ख़िलाफ़ ए

नई दिल्ली, 08 दिसंबर: (एजेंसी) आम आदमी पार्टी (AAP) क़ाइद अरविंद केजरीवाल और दीगर कई अफ़राद को वज़ीर-ए-आला शीला दीक्षित की रिहायश गाह के बाहर उस वक़्त गिरफ़्तार कर लिया गया जब वो जुनूबी दिल्ली के एक इलाक़ा ही इमारतों के इन्हिदाम के ख़िलाफ़ एहतिजाज कर रहे थे।

इत्तिलाआत के मुताबिक़ ज़ायदाज़ सौ अफ़राद शीला दिक्षित की रिहायश गाह मौक़ूआ 3 मोती लाल नहरू मार्ग पर सुबह 7 बजे जमा हो गए थे जबकि 8 बजे के क़रीब केजरीवाल भी वहां पहुंच गए। ओखला के क़रीब शाहीन बाग़ में उनकी इमारतों और मकानात को मुनहदिम किए जाने के ख़िलाफ़ वो सब वहां एहतिजाज के लिए जमा हुए थे।

उन्होंने शीला दिक्षित से मुलाक़ात का मुतालिबा किया। जब उन्होंने धरने के मुक़ाम से हटने से इनकार कर दिया तो तक़रीबन दोपहर 12.30 बजे उन्हें गिरफ़्तार कर लिया गया। केजरीवाल और AAP के दीगर क़ाइदीन मनीष सिसोदिया और कुमार विश्वास भी गिरफ़्तार किए जाने वाले अफ़राद में शामिल थे।

यहां इस बात का तज़किरा भी ज़रूरी है कि शीला दिक्षित की रिहायश गाह के क़रीब पुलिस जमईयत को तैनात किया गया था ताकि कोई नाख़ुशगवार वाक़िया ना हो। जनपथ रोड की जानिब से पुलिस ने सड़क की नाकाबंदी कर दी थी क्योंकि वहां से रास्त तौर पर शीला दिक्षित की रिहायश गाह पहुंचना आसान था।

केजरीवाल ने कहा कि जिन आराज़ीयात पर मकानात तामीर किए गए हैं एहतिजाज करने वाले इन आराज़ीयात के असल मालिक हैं और उनके पास दस्तावेज़ी सुबूत भी हैं लेकिन उन्हें गै़रक़ानूनी इसलिए क़रार दिया गया कि इसके नक़्शे हुकूमत से मंज़ूर शूदा नहीं थे लेकिन 4 अक्टूबर 2010 को सोनीया गांधी ने ऐलान किया था कि 1600 कालोनीयों को क़ानूनी दर्जा दिया जाएगा जिनमें से एक कॉलोनी ये भी है जहां 500 मकानात मुनहदिम किए गए जबकि क़रीब में ही वाकेय् ( स्थित) शो रूम्स को हाथ तक नहीं लगाया गया जिससे ये ज़ाहिर होता है कि ये आराज़ीयात पर क़बज़ा करने का एक स्कैंडल था ताकि आराज़ीयात किसी बिल्डर के हवाले की जा सके।

क्या सोनीया गांधी अपनी लालच में दिल्ली की किसी भी इमारत को मुनहदिम करवा देंगी। मुतास्सिरा अफ़राद के पास कारकर्द और क़ानूनी दस्तावेज़ात मौजूद हैं।

TOPPOPULARRECENT