Friday , December 15 2017

क्रिकेट टीम इंडिया के पूर्व कप्तान अजहर की तरह खेलनेवाला एक उभरता हमनाम खिलाड़ी

नई दिल्ली : टीम इंडिया के पूर्व कप्तान मोहम्मद अजहरुद्दीन के हमनाम केरल के मोहम्मद अजहरुद्दीन एक उभरते खिलाड़ी है. इस बल्लेबाज ने इस सीजन के अपने दूसरे ही रणजी मैच में ही अपनी छाप छोड़ दी है. वैसे तो वह विकेटकीपर है, लेकिन बल्लेबाजी में वह कुछ शॉट्स भी ‘अजहर’ की ही तरह खेलता है. जी हां, हम अपने कलाई उस्ताद और टीम इंडिया के सबसे सफल कप्तान को अजहर नाम से ही जानते हैं.

मो. अजहरुद्दीन के एक प्रदर्शन की वजह से वह चर्चा में आए हैं. गुवाहाटी में खेले जा रहे केरल और आंध्रप्रदेश के रणजी ट्रॉफी ग्रुप-सी मैच में जब आंध्र ने टॉस जीतकर केरल को बल्लेबाजी थमाई, तो उसे उम्मीद नहीं थी कि उसके कप्तान रोहन प्रेम को छोड़कर सचिन बेबी और संजू सैमसन जैसे स्टार खिलाड़ी यूं ही हथियार डाल देंगे. सचिन बेबी और संजू सैमसन के पास तो आईपीएल और लिस्ट-ए मैचों का भी अनुभव था, लेकिन वह काम नहीं आया. देखते ही देखते केरल के 36 पर ही 4 विकेट गिर गए.

4 विकेट जल्दी गिरने के बाद मैदान पर आए मोहम्मद अजहरुद्दीन ने कप्तान रोहन प्रेम का बखूबी साथ निभाया. बल्कि यूं कहें कि उन्होंने कमान अपने हाथ में ले ली. पहले उन्होंने कप्तान के साथ पांचवें विकेट के लिए 71 रन जोड़े, फिर छठे विकेट के लिए आईपीएल स्टार इकबाल अबदुल्ला के साथ 48 और सातवें विकेट के लिए 24 रन की साझेदारी करके टीम को कुछ हद तक संकट से उबारा. मो. अजहरुद्दीन ने बिल्कुल अजहर की ही तरह कलात्मक बल्लेबाजी करते हुए 201 गेंदों का सामना किया और 12 चौकों के साथ 82 रन बनाए. अंत में उन्हें तेज गेंदबाज विजय कुमार ने अश्विन हेब्बार के हाथों कैच करा दिया.

केरल के मोहम्मद अजहरुद्दीन का जन्म 22 मार्च, 1994 को हुआ था. उनके माता-पिता उनका नाम कुछ और रखना चाहते थे, लेकिन उनके बड़े भाई कमरुद्दीन को यह नाम पसंद नहीं आया, क्योंकि वह कुछ और ही नाम रखना चाहते थे. कमरुद्दीन को क्रिकेट बहुत पसंद था और वह टीम इंडिया के कलात्मक बल्लेबाज कलाई मास्टर मोहम्मद अजहरुद्दीन के बहुत बड़े फैन थे, इसलिए वह चाहते थे कि उनके छोटे भाई का नाम अजहर के नाम पर ही रखा जाए. इतना ही नहीं वह चाहते थे कि वह क्रिकेटर भी बनें. फिर क्या था घर वालों ने उनका इच्छा का सम्मान करते हुए अपने छोटे बेटे का नाम मोहम्मद अजहरुद्दीन रख दिया. उन दिनों सीनियर अजहर न्यूजीलैंड में खेल रहे थे और उनके नाम के बड़े चर्चे थे.

गोवा के खिलाफ पिछले सप्ताह ही खेले गए रणजी मुकाबले से पहले अजहरुद्दीन को केरल की रणजी टीम में शामिल किया गया था और उन्होंने दूसरी पारी में 64 रन की छोटी पारी खेलकर छाप छोड़ी थी. हालांकि फर्स्ट क्लास डेब्यू उन्होंने 2015 में गोवा के खिलाफ ही किया था और 31 रन बनाए थे. इससे पहले वह अंडर-19 और अंडर-23 टीमों में अपने प्रदर्शन से सबका ध्यान खींच चुके थे. रणजी टीम में चयन से पहले सीके नायडू ट्रॉफी में उनकी दो पारियों ने काफी प्रभावित किया. एक पारी उन्होंने महाराष्ट्र के खिलाफ 156 रन (15 चौके, 8 छक्के) की और दूसरी विदर्भ के खिलाफ 63 रनों की खेली थी.

TOPPOPULARRECENT