Tuesday , September 25 2018

क्रिकेट से दिलचस्पी रखने वाले पुराना शहर के नौजवानों को रोज़गार का मौक़ा

हैदराबाद २‍‍‍‍‍‍‍‍५ फरवरी(सियासत न्यूज़)क़ुली क़ुतुब शाह स्टेडीयम हैदराबाद में सी सी ओ बी कीजानिब से चलाया जा रहा क्रिकेट कोचिंग सैंटर अब क्रिकेट खिलाड़ी बनने का शौक़ रखने वाले पुराना शहर के नौजवानों के इलावा एम्पायरिंग या स्क

हैदराबाद २‍‍‍‍‍‍‍‍५ फरवरी(सियासत न्यूज़)क़ुली क़ुतुब शाह स्टेडीयम हैदराबाद में सी सी ओ बी कीजानिब से चलाया जा रहा क्रिकेट कोचिंग सैंटर अब क्रिकेट खिलाड़ी बनने का शौक़ रखने वाले पुराना शहर के नौजवानों के इलावा एम्पायरिंग या स्कोरिंग की ख़ाहिशमंद नौजवानों के लिए रोज़गार का बेहतरीन मुतबादिल बन गया ही।सिटी कॉलिज ओलड ब्वॉयज़ एसोसी उष्ण की जानिब से गुज़शता 55साल से चलाया जा रहा कोचिंग सैंटर अब रंग लाने लगा है।

यहां तलबा-ए-क्रिकेट खेलने का ज़ौक़ पूरा करने के साथ साथ अब लीग मयाचस जैसी मयारी क्रिकेट में भी अपनी सलाहीयतों का मुज़ाहरा करने लगे हैं। यहां रोज़ाना सुबह और शामजुमला 70बच्चे क्रिकेट की तर्बीयत पाते हैं जिन्हें सी सी ओ बी के 5कोचस क्रिकेट सैक्रेटरी मुहम्मद फ़ारूक़ मक़बूल बैग सय्यद शाहीन सैनू और फ़ोज़ान तर्बीयत देते हैं।

यहां तर्बीयतयाफ़ता बाअज़ तलबा-ए-ने लीग मयाचस के बाद राणजी ट्रॉफ़ी में भी अपने जौहर दिखाए हैं जिन में अहमद कादरी और एम ए क़ादिर शामिल हैं।इन दोनों खिलाड़ियों ने कई मयाचस में अपनी बेहतरीन सलाहीयतों का मुज़ाहरा करते हुए अपनी टीम को ना सिर्फ कामयाबी दिलाई बल्कि क़ौमी क्रिकेट की तवज्जा पुराना शहर की तरफ़ मबज़ूल करवाई जिस के बाद सुलक्षण के मवाक़े पर पुराना शहर के बासलाहीयत खिलाड़ियों को भी ज़हन में रखा जाने लगा है।

देखते ही देखते ये दायरा इतना वसीअ होगया है कि यहां एम्पायरिंग और इस्कॊरर् की तर्बीयत भी दी जाने लगी है जो तलबा-ए-के लिए रोज़गार का ज़रीया भी बन गई ही।दरअसल एचसी ए की जानिब से एम्पायरिंग और असकोरर की तर्बीयत का प्रोग्राम शुरू किया गया ही। जिमखाना ग्राउन्ड‌ ऊपल और क़ुली क़ुतुब शाह स्टेडीयम मैं बाज़ाबताइस के तर्बीयती क्लासस चलाए जाते हैं। ये क्लासस हफ़्ता में एक दिन 5ताबजे मुंदरजा बाला मराकज़ पर चलाई जाती हैं।

ये तर्बीयत मुफ़्त फ़राहम की जाती है जिस से इस्तिफ़ादा के लिए उम्र या तालीमी क़ाबिलीयत की कोई क़ैद नहीं ही। सिर्फ क्रिकेट का ज़ौक़ रखने वाले नौजवान खेल के बुनियादी उसूलों से वाक़िफ़ हूँ तो उन्हें बाक़ी क़वाइद और उसूलों की तर्बीयत दी जाती ही। बाद में एचसी ए की जानिब से खिलाए जाने वाले मयाचस में एम्पायर और असकोरर के तौर पर इन तर्बीयत याफ़ता नौजवानों की ख़िदमात हासिल की जाती हैं।चूँकि एम्पायरस और स्कोर रस की काफ़ी मांग है इस लिए उम्र और तालीमीक़ाबिलीयत की क़ैद-ओ-बंद को ज़हन में रखे बगै़र नौजवान की सलाहीयत और इस की ज़हनीयत को देखते हुए बहुत जल्द मयाचस के लिए उस की ख़िदमात हासिल करली जाती हैं। एम्पायरिंग के लिए इबतदा-ए-में वन डे मयाच के लिए यौमिया 600रुपय और असकोरर के लिए 400रुपय उजरत दी जाती है जबकि तजरबाकार नौजवान को एम्पायरिंग के लिए 700रुपय तक दिए जाते हैं। नौजवानों के तजुर्बा में इज़ाफ़ा के साथ उजरत में भीइज़ाफ़ा किया जाता है ।

इबतदा-ए-में तो ये जुज़ वक़्ती रोज़गार होता है और हफ़्ता मैं 4मयाचस की एम्पायरिंग-ओ-स्कोरिंग करवाई जाती है लेकिन बाद में तजुर्बा की बुनियाद पर नौजवानों को मुस्तक़िल तौर पर एम्पायर या असकोरर मुक़र्रर करदिया जाता है।इस के लिए नौजवान का जिस्मानी एतबार से सेहत मंदिर बिलख़सूस बसारत का बेहतर होना लाज़िमी है। ख़ाहिशमंद नौजवान एच सी ए के दफ़्तर से रुजू होकर तर्बीयत के लिए अपना रजिस्ट्रेशन करवा सकते हैं। इस के इलावा सी सी ओ बी के क्रिकेट सैक्रेटरी मुहम्मद फ़ारूक़ से सेल फ़ोन नंबर्स 9246534967 और 9346259690 पर ऱाब्ता पैदा किया जा सकता है।

TOPPOPULARRECENT