ख़ुसर के मुजस्समा पर दामादों में लफ़्ज़ी जंग

ख़ुसर के मुजस्समा पर दामादों में लफ़्ज़ी जंग
बानी तेलगुदेशम पार्टी आँजहानी एन टी रामाराव‌ के पार्ल्यमंट में मुजस्समा की तंसीब के मसले पर आँजहानी क़ाइद के दो दामादों , कांग्रेस के रुकन असेंबली डी वेंकटेश्वर राव‌ और तेलजुदेशम पार्टी के सदर एन चंद्रा बाबू नायडू के दरमियान लफ़

बानी तेलगुदेशम पार्टी आँजहानी एन टी रामाराव‌ के पार्ल्यमंट में मुजस्समा की तंसीब के मसले पर आँजहानी क़ाइद के दो दामादों , कांग्रेस के रुकन असेंबली डी वेंकटेश्वर राव‌ और तेलजुदेशम पार्टी के सदर एन चंद्रा बाबू नायडू के दरमियान लफ़्ज़ी जंग छिड़ गई है ।

वेंकटेश्वर राव‌ ने अपने हमज़ुलफ़ पर सख़्त तन्क़ीद करते हुए कहा कि उन के ख़ुसर का मुजस्समा इन ( वेंकटेश्वर राव‌) की बीवी-ओ-मर्कज़ी वज़ीर डी पोरनदेशोर की काविशों का नतीजा है।

वेंकटेश्वर राव‌ ने नायडू को ख़बरदार किया कि वो पोरनदेशोर पर ओछी तन्क़ीदें ना करें । उन्हों ने कहा कि चंद्रा बाबू अक्सर ये दावे किया करते हैं कि दिल्ली में इन का बहुत ज़्यादा असर-ओ-रसूख़ है तो उन से पूछना चाहता हूँ कि उन्हों ने अपने 9 साला दौर इक़तिदार के दौरान इस ज़िमन में क्या किया था ।

दरहक़ीक़त नायडू ने एन टी आर के मुजस्समा की तंसीब की कभी कोई परवाह नहीं की थी । राव‌ ने कहा कि नायडू अब गैरज़रूरी तौर पर ये कह रहे हैं कि मर्कज़ ने एन टी आर को भारत रतन एवार्ड नहीं दिया ।

लेकिन में पूछना चाहता हूँ कि उन के इक़तिदार में तामीर शूदा जी एम आर एरिपोर्ट को उन्हों ने एन टी आर से मौसूम क्यों नहीं किया था । र नायडू के बड़े हमज़ुलफ़ ने कहा कि रियासत के अवाम उन्हें (नायडू) को यादगार सबक़ सिखाएंगे।

Top Stories