Tuesday , December 19 2017

खालिदा ज़िया पर आई एस आई से पैसे हासिल करने का इल्ज़ाम

वज़ीर-ए-आज़म बंगला देश शेख हसीना ने बंगला देश नेशनलिस्ट पार्टी की सरबराह खालिदा ज़िया पर इल्ज़ाम आइद किया है कि उन्हें पाकिस्तान के महकमा सुराग़ रसानी आई एस आई से 1991 के आम इंतिख़ाबात से पहले रकमें हासिल होती रही हैं। बंगला देश ने

वज़ीर-ए-आज़म बंगला देश शेख हसीना ने बंगला देश नेशनलिस्ट पार्टी की सरबराह खालिदा ज़िया पर इल्ज़ाम आइद किया है कि उन्हें पाकिस्तान के महकमा सुराग़ रसानी आई एस आई से 1991 के आम इंतिख़ाबात से पहले रकमें हासिल होती रही हैं। बंगला देश नेशनलिस्ट पार्टी बंगला देश की अहम अपोज़ीशन है।

शेख हसीना ने कल एक ज़बरदस्त पर हुजूम जलसा-ए-आम से ख़िताब करते हुए जिस का एहतिमाम बरसर-ए-इक़तिदार अवामी लीग ने किया था कहा कि आप खालिदा ज़ियाए- ने मुल्क को फ़रोख़त कर दिया और उन लोगों से रक़म हासिल की जो बंगला देश में नसल कुशी के ज़िम्मेदार हैं। बंगला देश के अवाम आप को कभी माफ़ नहीं करेंगे ।

आप ने शिकस्त ख़ूर्दा ताक़तों से रकमें क्यों हासिल की। उन्हों ने कहा कि लोग जानना चाहते हैं एक ना एक दिन आप को अवाम के सामने जवाबदेही करनी होगी । शेख हसीना का ये तबसरा मुत्तहदा अरब इमारात में रोज़नामा ख़लीज टाईम्स की इस ख़बर के बाद मंज़र-ए-आम पर आया है कि आई एस आई ने खालिदा ज़ियाको 1991 के बंगला देश के आम इंतिख़ाबात से पहले ख़तीर रकमें अदा की थीं

ताकि शेख हसीना वाजिद के ख़िलाफ़ इंतिख़ाबात में इन की मदद की जाय। शेख हसीना की अवामी लीग पार्टी समझा जाता है कि पाकिस्तान के सयान्ती इंतिज़ामीया की मुख़ालिफ़ और हिंदूस्तान मुवाफ़िक़ है । बंगला देश नेशनलिस्ट पार्टी ने ताहम इस ख़बर को मुस्तर्द करते हुए कहा कि इस की सीनियर सटानडिंग कमेटी के रुक्न रफीक उल-इस्लाम मियां इस ख़बर को क़तई बे बुनियाद और मज़हका ख़ेज़ क़रार दे चुके हैं।

रफीक उल-इस्लाम ने कहा था कि इस बात का तसव्वुर भी नहीं किया जा सकता कि बंगला देश नेशनलिस्ट पार्टी जैसी कोई पार्टी ग़ैरमुल्की तनज़ीमों से इंतिख़ाबी मुहिम के लिए रकमें हासिल करेगी । लेकिन शेख हसीना ने इल्ज़ाम आइदकिया है कि रक़म हासिल करने के बाद खालिदा ज़िया बंगाली दां अवाम की ग़द्दार बन चुकी है और 1971 की जंग-ए-आज़ादी के दौरान इंसानियत सोज़ जराइम की मुर्तक़िब एजंसियों से रक़म हासिल करके उन की ताईद हासिल कर चुकी है ।

इसी वजह से उन के ख़िलाफ़ मुक़द्दमा में रुकावटें पैदा करती रही हैं। खालिदा ज़ियाजंगी जराइम के मुरतकेबीन को बचा नहीं सकेंगी , बंगला देश की सरज़मीन पर उन के जराइम के लिए उन्हें सख़्त सज़ा-ए-दी जाएगी ।

TOPPOPULARRECENT