Sunday , December 17 2017

खुद की मौत की साजिश रचने वाले आशिक और माशूका गिरफ्तार

जिस आरटीआई कारकुन के कत्ल की खबर ने एक तहरीक खड़ा कर दिया था | जिसके कत्ल को साजिश करार देते हुए कई लोगों पर शक जताया गया.

जिस आरटीआई कारकुन के कत्ल की खबर ने एक तहरीक खड़ा कर दिया था | जिसके कत्ल को साजिश करार देते हुए कई लोगों पर शक जताया गया. ग्रेटर नोएडा के साकिन चंद्रमोहन शर्मा को पुलिस ने मंगल की बेंगलुरु से गिरफ्तार किया है | वह भी अकेले नहीं माशूका के साथ |

इस आरटीआई कारकुन की गिरफ्तरी ने सवाल खड़ा कर दिया है कि आखिर वह लाश किसकी थी , जो चार माह पहले चंद्रमोहन की कार से आधे जले की हलत में मिला |

मालूम हो कि आरटीआई कारकुन चंद्रमोहन शर्मा की गत एक मई की रात कासना कोतवाली इलाके में मुश्तबा हालत में कार में जलकर मौत हो गई थी. जली हुई कार में मिली लाश चंद्रमोहन का होने की बात कही गई थी |

ड्यूटी से घर लौटते वक्त यह हादिसा हुआ था | वाकिया के कुछ देर बाद ही इस तरह की अफवाह फैलने शुरू हो गई थी कि चंद्रमोहन शर्मा जिंदा है | पड़ोसी मुल्क नेपाल में खातून दोस्त के साथ रह रहा है |

मंगल की सुबह उनकी बीवी सविता शर्मा के मोबाइल पर किसी ने फोन किया और चंद्रमोहन शर्मा के जिंदा होने की अफवाह के बारे में बताया | धीरे-धीरे यह खबर पूरे शहर में फैल गई. सविता शर्मा का दावा है कि बेंगलुरू पुलिस ने चंद्रमोहन को एक खातून दोस्त के साथ गिरफ्तार कर गौतमबुद्धनगर पुलिस के हवाले कर दिया है |

फिलहाल पुलिस ने सविता शर्मा को इस बारे में अभी कुछ नहीं बताया है. सविता शर्मा ने भी पुलिस से राबिता नहीं किया. इस बारे में जब एसएसपी डॉ. प्रीतिंद्र सिंह से बात की गई तो उन्होंने बताया कि तकरीबन 15 दिन पहले मुखबिर से इत्तेला मिली थी चंद्रमोहन शर्मा जिंदा देखा गया है |

इत्तेला की बुनियाद पर पुलिस टीमों को बेंगलुरू, नेपाल बार्डर व दिल्ली भेजा गया है. यहां पर यह सवाल उठता है कि अगर आरटीआई कारकुन चंद्रमोहन शर्मा जिंदा है तो आखिर उसकी जली हुई कार में किसकी लाश पड़ी मिली थी \ फोरेंसिक रिपोर्ट भी अभी तक नहीं आई है.

आखिर पुलिस ने उस वक्त किस बुनियाद पर यह मान लिया था कि जली हुई कार में मिली लाश आरटीआई कारकुन चंद्रमोहन शर्मा की ही है | पुलिस जांच पर सवालिया निशान उठने लगा है |

TOPPOPULARRECENT