Friday , December 15 2017

खून से लथपथ सीरियाई मासूम डॉक्टर से लिपट गया: सामने आया फिर एक दर्दनाक वीडियो

FILE - In this Monday, Sept. 14, 2015 file photo, Yemeni soldiers loyal to exiled Yemeni President Abed Rabbo Mansour Hadi visit a United Arab Emirates military base near Saffer, Yemen. In Yemen’s Marib province, a key battleground in the fighting against Shiite rebels, frustration is growing in the ranks of troops backing the country’s president-in-exile after more than a week without gains on the ground. (AP Photo/Adam Schreck)

दमिश्क़: सीरिया की जंग रहती दुनिया तक मानवता के नरसंहार की बुरी यादें छोड़ेगी, मगर इस युद्ध का सबसे गहरा और भयानक पहलू मासूम बच्चों का असदी सेना और उसके चेलों के हमलों में निशाना बनते हुए शहीद या घायल होना भी कम दर्दनाक और दिलख़राश नहीं है।

Facebook पे हमारे पेज को लाइक करने के लिए क्लिक करिये

सीरिया की लड़ाई में हुई लहू में डूबे बच्चों की अनगिनत कहानियां आए दिन मीडिया की शोभा बन रही हैं। बच्चों के घायल और शहीद होने के दिलख़राश घटनायें युद्ध की भयानक पहलु का बोलती सच्चाई हैं। इस संदर्भ में युद्धग्रस्त सीरिया के शहर ओलेप्पो का एक नया फुटेज सामने आया है जिसमें सीरियाई या रूसी विमानों की बमबारी के परिणामस्वरूप चोटों और भय का शिकार होने वाला एक बच्चा डॉक्टर के गले लगकर इस तरह लिपटा की उससे दूर होने का नाम नहीं ले रहा था। चीखते चिल्लाते बच्चे के घावों की पीड़ा अपनी जगह मगर वह जिस भय का शिकार था वह भी कम दुखद नहीं है।
अल अरबिया डॉट नेट के अनुसार अमेरिका की एक मेडिकल संगठन SAMS द्वारा जारी फुटेज में बताया गया है कि एक कम उम्र सीरियाई बच्चा उत्तरी ओलेप्पो के एक अस्पताल में लाया गया जहां वह गंभीर रूप से घायल होने के साथ साथ गंभीर आतंक का भी शिकार था। बच्चे को अस्पताल में इलाज के लिए पहुंचाया गया तो उसका चेहरा और बाकी शरीर खून से लथपथ था। बच्चा डॉक्टर को देखते ही अजनबी होने के बावजूद गले से चिमट कर रोना शुरू कर दिया। इस दिलखराश दृश्य को कैमरे की आंख में क़ैद किया गया और इसे इंटरनेट पर लाखों लोगों ने देखा है।
वीडियो फुटेज में बताया गया है कि उक्त बच्चा पिछले शुक्रवार को उत्तरी ओलेप्पो में अज्ञात हमलावरों विमानों की बर्बर बमबारी का निशाना बना है। इस बमबारी में 13 लोग मारे गए जबकि 40 घायलों को एक छोटे अस्पताल में लाया गया जिनमें ज्यादातर बच्चे और महिलाएं थी। इन नागरिकों को शरणार्थी शिविरों में बमबारी का निशाना बनाया गया था।

TOPPOPULARRECENT