Friday , December 15 2017

खौफ से गुमला छोड़ रहे असातिज़ा

गुमला में हुकूमत का राज नहीं दिख रहा है। जिले में छोटे-बड़े 11 नक्सली, उग्रवादी और मुजरिमाना ग्रुप सरगर्म हैं। असातिज़ा तक महफूज नहीं हैं। उग्रवादी और मुजरिम असातिज़ा से रंगदारी और लेवी मांग रहे हैं। नहीं देने पर उनका यरगमाल कर रहे ह

गुमला में हुकूमत का राज नहीं दिख रहा है। जिले में छोटे-बड़े 11 नक्सली, उग्रवादी और मुजरिमाना ग्रुप सरगर्म हैं। असातिज़ा तक महफूज नहीं हैं। उग्रवादी और मुजरिम असातिज़ा से रंगदारी और लेवी मांग रहे हैं। नहीं देने पर उनका यरगमाल कर रहे हैं। उनकी कत्ल कर दी जा रही है। भाकपा माओवादी देही इलाकों से बच्चों को तंजीम में शामिल करा रहे हैं। पर पुलिस इंतेजामिया की तरफ से कोई कार्रवाई नहीं की जा रही है। जिले में दहशत बढ़ता जा रहा है।

गुमला में रंगदारी और लेवी की मांग से परेशान असातिज़ा अब जिला छोड़ने की तैयारी में हैं। अपने ऊपर हो रहे हमले को देखते हुए जिले के असातिज़ा अपना तबादला करवाना चाहते हैं। जानकारी के मुताबिक, जिले के तकरीबन 297 असातिज़ा ने जिला तालीम सुप्रीटेंडेंट को दरख्वास्त दिया है। इसके जरिये अपने तबादले की मांग की है। तमाम ने तबादले की वजह अदम तहफ्फुज बतायी है।

डीएसइ का पावर सीज

डीएसइ सच्चिदानंद तिग्गा को हटाने की असातिज़ा की मांग पर डीसी ने कहा कि उनका पावर मंसूख कर दिया गया है। उनके जगह पर एरिया ऑफिसर रविंद्र सिंह को डीएसइ का काम देखने के लिए कहा गया है। डीएसइ दफ्तर के रहमान अंसारी को ट्रेनिंग स्कूल में शिराकत देने के लिए कहा गया है। ट्रांसफर- पोस्टिंग मामले की जांच एसडीओ करेंगे। 15 दिन में रिपोर्ट सौपेंगे।

TOPPOPULARRECENT