ख्वातीन ने मांगा टॉपलेस रहने का हक

ख्वातीन ने मांगा टॉपलेस रहने का हक
दुनिया के ज़्यादातर मुल्कों में आवामी तौर पर न्युडिटी पर रोक है लेकिन ब्राजील में ख्वातीन ने Naked होने को अपना हक जताते हुए मुज़ाहिरा की हैं। ब्राजील में आम ख्वातीन ही नहीं बल्कि सहाफी खातून ने भी टॉपलेस रहने के लिए तहरीक कर दिया। इन

दुनिया के ज़्यादातर मुल्कों में आवामी तौर पर न्युडिटी पर रोक है लेकिन ब्राजील में ख्वातीन ने Naked होने को अपना हक जताते हुए मुज़ाहिरा की हैं। ब्राजील में आम ख्वातीन ही नहीं बल्कि सहाफी खातून ने भी टॉपलेस रहने के लिए तहरीक कर दिया। इन बिन्दास खातून सहाफी -फोटो जर्नलिस्ट का कहना है कि वो टॉपलेस होकर सडकों पर घूमना चाहती हैं।

इसके लिए इन बिन्दास ख्वातीन ने बकायदा टॉपलेस होकर एहतिजाज किया। कुछ ही देर में इस खातून की तहरीक में सैंकडों ख्वातीन टॉपलेस होकर शामिल हो गई। इनके तहरीक में मर्दों ने भी शामिल होते हुए ताइद की। मिरर ऑनलाइन की खबर के मुताबिक ब्राजील की ख्वातीन ने टॉपलेस ना घूमने देने के कानून का टॉपलेस होकर खूब एहतिजाज किया।

कानून की मुखालिफत में ब्राजील के मशहूर इपानेमा समंदर के साहिल पर ख्वातीन ने टॉपलेस होकर मुज़ाहिरा किया। इस मुल्क में सत्तर साल से भी ज्यादा पुराना कानून इसे अश्लील मानता है। यह बात अलग है कि इस कानून को तोडने वालों पर अक्सर कोई कार्रवाई नहीं होती लेकिन इस कानून के तहत तीन से बारह महीने की कैद या जुर्माने का कानून है।

एक्शन नहीं लिए जाने के बावजूद लोगों में इस कानून को लेकर नाराजगी है। ओल्ड रियो की रहने वाली 73 साल की ओल्गा सलोन का कहना है कि ब्रेस्ट कोई खतरनाक चीज नहीं है। इस कानून से मर्दों की ज़हनियत झलकती है। सही मायने में देखा जाए तो इस कानून का कोई मतलब नहीं है। अगर मर्दों को कुछ भी करने की आजादी है तो ख्वातीन के साथ ऐसी सजा क्यों |

Top Stories