Tuesday , April 24 2018

गंगा को प्रदूषित करने वाली कंपनियों की सूची में रामदेव बाबा की पतंजलि शामिल

लखनऊ। सीएजी (CAG) की एक ताजा रिपोर्ट में बाबा रामदेव की पतंजलि उन कंपनियों की सूची में शामिल हो गई है जो गंगा को प्रदूषित करती हैं। कैग ने एक रिपोर्ट जारी की है जो भारत की सबसे पवित्र मानी जाने वाली नदी ‘गंगा’ से जुड़ी है। गंगा नदी को हिंदू धर्म में बहुत मान्यता दी गई है।

इस नदी को बेहद पवित्र माना जाता है। हालांकि गंगा दिन-प्रतिदिन प्रदूषित होती जा रही है। जानकारी के अनुसार मंगलवार को नमामी गंगे परियोजना पर एक विस्तृत रिपोर्ट दोनों सदनों में पेश की गई।

गंगा को साफ करने पर सरकार का उपदेश इस रिपोर्ट में चौंकाने वाला अंतर दिखाती है। गंगा को साफ करना भाजपा के घोषणापत्र का हिस्सा था। 180 दोषी उद्योगों में से 42 यूनिट्स ने नोटिस के बावजूद अनुपालन प्रस्तुत नहीं किया और न ही निरीक्षण के लिए यूईपीपीसीबी से संपर्क किया।

नदी को प्रदूषित करने वाली हरिद्वार की जिन 9 कंपियों को बंद किया गया था, सीएजी ने पाया कि उनमें से 7 कंपनियां अभी भी चल रही थी। इस कदम के बाद हरिद्वार के 5 आश्रमों को धमकी मिलने के बाद सेप्टिक टैंकों की स्थापना की गई, ताकि गंदे पानी का प्रवाह नदी में न पहुंच पाए।

बता दें कि गंगा को सबसे अधिक गंदा करने वाले शहरों में कोलकाता, वाराणसी, कानपुर, इलाहाबाद, पटना, हावड़ा, हरिद्वार और भागलपुर है, जो गंगा में 70% प्रदूषण के लिए जिम्मेदार हैं। रिपोर्ट के अनुसार बिहार, झारखंड, उत्तराखंड, यूपी और पश्चिम बंगाल में ग्रामीण स्वच्छता कार्यक्रम बेहद कम है।

TOPPOPULARRECENT