Sunday , December 17 2017

गटला बेगमपेट की अराज़ी का तहफ़्फ़ुज़ और इस्लामिक सेंटर की तामीर

डिप्टी चीफ़ मिनिस्टर तेलंगाना महमूद अली ने गटला बेगमपेट में तारीख़ी मस्जिद आलमगीर की तामीर जदीद का संग-ए-बुनियाद रखा। उन्होंने यकीन दिया कि हुकूमत मस्जिद के साथ नई दिल्ली की तर्ज़ पर इस्लामिक सेंटर की तामीर को यक़ीनी बनाएगी जहां अ

डिप्टी चीफ़ मिनिस्टर तेलंगाना महमूद अली ने गटला बेगमपेट में तारीख़ी मस्जिद आलमगीर की तामीर जदीद का संग-ए-बुनियाद रखा। उन्होंने यकीन दिया कि हुकूमत मस्जिद के साथ नई दिल्ली की तर्ज़ पर इस्लामिक सेंटर की तामीर को यक़ीनी बनाएगी जहां अक़लियतों के लिए तालीमी और समाजी सरगर्मीयों को रूबा अमल लाया जा सके।

एडीटर सियासत ज़ाहिद अली ख़ान की तजवीज़ से इत्तिफ़ाक़ करते हुए महमूद अली ने कहा कि इस्लामिक सेंटर की तामीर के अलावा अतराफ़ की औकाफ़ी अराज़ी का मुकम्मिल तहफ़्फ़ुज़ किया जाएगा। उन्होंने कहा कि हुकूमत और चीफ़ मिनिस्टर के चन्द्रशेखर राव मुसलमानों की मआशी, तालीमी और समाजी तरक़्क़ी के मुआमले में संजीदा हैं।

साबिक़ा आंध्रई हुकमरानों ने ना सिर्फ़ औकाफ़ी जायदादों पर नाजायज़ क़ब्ज़ों की हौसलाअफ़्ज़ाई की बल्कि अक़लियतों को तरक़्क़ी से महरूम रखा। चंद्रशेखर राव‌ मुसलमानों को तरक़्क़ी याफ़ता देखना चाहते हैं। उन्होंने कहा कि गटला बेगमपेट में मस्जिद आलमगीर की अराज़ी मर्कज़ी मुक़ाम पर मौजूद है लिहाज़ा यहां आलीशान मस्जिद की तामीर से इस मस्जिद का शुमार हैदराबाद की आलीशान मसाजिद में होगा।

महमूद अली ने कहा कि तेलंगाना रियासत की तशकील के बाद अवाम ख़ुद को बाइज़्ज़त महसूस कररहे हैं। तेलंगाना जद्द-ओ-जहद के दौरान आंध्रई ताक़तों ने कहा था कि तेलंगाना रियासत को कामयाबी के साथ चलाया नहीं जा सकता। लेकिन टी आर एस हुकूमत ने इस इस्तिदलाल को ग़लत साबित कर दिखाया है।

चीफ़ मिनिस्टर चंद्रशेखर राव बारहा कहा करते थे कि अल्लाह के पास देर है अंधेर नहीं। अल्लाह के फ़ज़ल-ओ-करम से तेलंगाना अवाम को इंसाफ़ मिल चुका है। महमूद अली ने कहा कि तेलंगाना में तमाम औकाफ़ी जायदादों और आराज़ीयात के तहफ़्फ़ुज़ के मुआमले में हुकूमत संजीदा है और गटला बेगमपेट की एक एक इंच अराज़ी का तहफ़्फ़ुज़ किया जाएगा।

उन्होंने बताया कि चंद्रशेखर राव ने गटला बेगमपेट का दौरा करते हुए अराज़ी के तहफ़्फ़ुज़ का वाअदा किया था।
जनाब महमूद अली ने कहा कि तेलंगाना में 77 हज़ार एकऱ् औकाफ़ी अराज़ी मौजूद है फिर भी मुस्लमान मआशी और तालीमी तौर पर पसमांदा हैं अगर इन औकाफ़ी आराज़ीयात को तरक़्क़ी दी जाती तो मुसलमानों की ये हालत ना होती।

उन्होंने बताया कि तवील अर्सा से औकाफ़ी आराज़ीयात पर क़ाबिज़ ग़रीबों के बारे में किसी फ़ैसले से पहले हुकूमत उल्मा-ओ-मशाइख़ीन से मुशावरत करेगी। हुकूमत की तजवीज़ हैकेतवील अर्सा से जिन अफ़राद की तहवील में औकाफ़ी अराज़ी है उन्हें वक़्फ़ बोर्ड का किरायादार बनाया जाये या मुनासिब रक़म हासिल करते हुए उन्हें मालिक क़रार दिया जाये।

उन्होंने बताया कि हुकूमत वक़्फ़ बोर्ड की आमदनी को 500 करोड़ तक पहुंचाने का निशाना रखती है और ये काम मुश्किल नहीं। उन्होंने कहा कि अगर महिकमा माल की तरफ से वक़्फ़ बोर्ड को तआवुन हासिल हो तो औकाफ़ी आराज़ीयात का तहफ़्फ़ुज़ बेहतर तौर पर होपाए गा।

ज़ाहिद अली ख़ान एडीटर सियासत ने बताया कि गटला बेगमपेट की औकाफ़ी अराज़ी के तहफ़्फ़ुज़ के लिए पिछ्ले 20 बरसों से जद्द-ओ-जहद की जा रही है चंद्रबाबू नायडू ने इलाके का दौरा करते हुए असेंबली में वादा किया था कि अराज़ी का तहफ़्फ़ुज़ किया जाएगा।

लेकिन ये वादा पुरा नहीं होसका। टी आर एस सरबराह चंद्रशेखर राव‌ ने गटला बेगमपेट की औकाफ़ी अराज़ी के तहफ़्फ़ुज़ की जद्द-ओ-जहद की ताईद की थी। ज़ाहिद अली ख़ान ने बताया कि इस अराज़ी के तहफ़्फ़ुज़ के लिए हाईकोर्ट में बेहतर पैरवी का अहम दख़ल है और रमा कांत रेड्डी एडवोकेट ने अराज़ी के तहफ़्फ़ुज़ को यक़ीनी बनाया था लेकिन कांग्रेस हुकूमत ने अचानक एडवोकेट को तबदील कर दिया ताके मुक़द्दमा में वक़्फ़ बोर्ड को कामयाबी ना मिले।

उन्होंने कहा कि चंद्रशेखर राव सेक्युलर हैं और उन्होंने मुसलमानों की तरक़्क़ी के कई वादे किए हैं वो उम्मीद करते हैं कि दुसरे वादों के साथ औकाफ़ी आराज़ीयात के तहफ़्फ़ुज़ का वादा भी पूरा होगा।

उन्होंने उम्मीद ज़ाहिर की के डिप्टी चीफ़ मिनिस्टर महमूद अली जो वज़ीर माल भी हैं और मुताल्लिक़ा रुकने पार्लियामेंट वेश्वेशोर रेड्डी के तआवुन से गटला बेगमपेट् की औकाफ़ी अराज़ी वक़्फ़ बोर्ड को हासिल होजाएगी। ज़ाहिद अली ख़ान ने एन आर आई अहमद नवाज़ ख़ान और उनके फ़र्ज़ंद मुहम्मद नवाज़ ख़ान के गिरांक़द्र तआवुन की सताइश की और कहा कि 2 करोड़ रुपये की लागत से आलीशान मस्जिद तामीर की जा रही है।

उन्होंने कहा कि मसाजिद तामीर करने वालों को अल्लाह ने जन्नत में मकान का वादा किया है। ज़ाहिद अली ख़ान ने नई दिल्ली के इस्लामिक सेंटर की तर्ज़ पर यहां इस्लामिक सेंटर की तामीर की तजवीज़ पेश की और डिप्टी चीफ़ मिनिस्टर से ख़ाहिश की के गटला बेगमपेट की अराज़ी के तहफ़्फ़ुज़ के लिए हाईकोर्ट में बेहतर पैरवी की जाये।
रुकने पार्लियामेंट चीवड़ला वेश्वेशोर रेड्डी ने इस अराज़ी के तहफ़्फ़ुज़ के लिए ज़ाहिद अली ख़ान की दिलचस्पी और मसाई का ज़िक्र किया और कहा कि रमा कांत रेड्डी एडवोकेट ने क़ानूनी लड़ाई में अहम रोल अदा किया है।

उन्होंने उम्मीद ज़ाहिर की के मस्जिद की तामीर का काम जल्द मुकम्मिल होजाएगा। इस मौके पर मुअज़्ज़िज़ और मुक़ामी अफ़राद की तरफ से मस्जिद की तामीर का बीड़ा उठाने वाले अहमद नवाज़ ख़ान और उन के फ़र्ज़ंद मुहम्मद नवाज़ ख़ान की गलपोशी की गई।

उसमान अलहाजरी ने गटला बेगमपेट् की अराज़ी और मस्जिद के औकाफ़ी होने से मुताल्लिक़ तफ़सीलात बयान कीं और मुक़ामी अफ़राद को इख़तिलाफ़ात बालाए ताक़ रखते हुए तामीरी काम की जल्द तकमील का मश्वरा दिया।

इस मौके पर मस्जिद कमेटी के ज़िम्मेदारों मुहम्मद फ़य्याज़, नवाज़ ख़ान, अनवर ख़ान, मुहम्मद अज़ीम , मुहम्मद सलीम , मुहम्मद यूसुफ़ ,यूसुफ़ अली और दूसरों ने इंतेज़ामात में अहम रोल अदा किया।

TOPPOPULARRECENT