Thursday , December 14 2017

गडकरी को ज़मीर की आवाज़ पर इस्तीफ़ा दे देना चाहीए : सी पी आई (एम)

शिमला, २७ अक्टूबर (पी टी आई) बी जे पी के सदर नितिन गडकरी के ख़िलाफ़ करप्शन के कई इल्ज़ामात के पेशे नज़र आज सी पी आई एम क़ाइद सुभाषिनी अली ने कहा कि उन्हें अपने ज़मीर की आवाज़ पर अपने ओहदे से मुस्ताफ़ी हो जाना चाहीए।

शिमला, २७ अक्टूबर (पी टी आई) बी जे पी के सदर नितिन गडकरी के ख़िलाफ़ करप्शन के कई इल्ज़ामात के पेशे नज़र आज सी पी आई एम क़ाइद सुभाषिनी अली ने कहा कि उन्हें अपने ज़मीर की आवाज़ पर अपने ओहदे से मुस्ताफ़ी हो जाना चाहीए।

साबिक़ रुकन पार्लीमेंट सुभाषिनी अली ने कहा कि गडकरी को चाहीए कि समाजी कारकुन अरविंद केजरीवाल की जानिब से उन पर करप्शन के इल्ज़ामात आइद करने के पस-ए-मंज़र में वो पार्टी की सदारत से मुस्ताफ़ी हो जाएं। एक प्रेस कान्फ्रेंस से ख़िताब करते हुए उन्होंने कहा कि दोनों बड़ी पार्टीयों कांग्रेस और बी जे पी के क़ाइदीन को करप्शन के संगीन इल्ज़ामात का सामना है।

अवाम को इन पार्टीयों पर भरोसा नहीं रहा और वो इन का मुतबादिल (अदल बदल) तलाश कर रहे हैं। ये पार्टीयां अवाम के एतिमाद पर पूरा उतरने से क़ासिर हैं और सयासी माहौल ऐसा बन गया है कि अवाम ये महसूस कर रहे हैं कि ये दोनों पार्टीयां उन की तवक़्क़ुआत पर पूरा नहीं उतर सकीं।

चुनांचे एक ताक़तवर तीसरी क़ुव्वत के उभरने का साज़गार माहौल पैदा हो गया है। उन्होंने मध्य प्रदेश की बी जे पी हुकूमत पर सख़्त तन्क़ीद करते हुए कहा कि वो करप्शन, बेरोज़गारी और ग़रीबों को राहत रसानी से क़ासिर ( वंचित)है। रियास्ती हुकूमत ने मुबय्यना तौर पर अडानी को रियायतें फ़राहम की हैं लेकिन ग़रीब अवाम को रियायतें फ़राहम करने से इनकार कर रही है।

हिमाचल प्रदेश की हुकूमत ने मर्कज़ के साथ एक मुआहिदा ( Agreement) किया है जिस के तहत मुलाज़मतों के मौक़े पैदा करने और उन पर तक़र्रुत पर इमतिना ( प्रतिबंध) आइद कर दिया गया है। इस तरह बेरोज़गार नौजवानों की क़िस्मत पर महर लग चुकी है।

TOPPOPULARRECENT