Friday , December 15 2017

गांधी जी के नज़रियात , अस्र-ए-हाज़िर से हम-आहंग : मोदी

नई दिल्ली: वज़ीर-ए-आज़म नरेंद्र मोदी ने अक़वाम-ए-मुत्तहिदा के 70 वीं यौमे तासीस के मौक़े पर अपने पैग़ाम में कहा कि अस्र-ए-हाज़िर में महात्मा गांधी के नज़रियात और उनका बनाया हुआ रास्ता ग़ैरमामूली एहमियत-ओ‍-इफ़ादियत का हामिल है। मुल्क में पेश आए हालिया तशद्दुद वाक़ियात के पेश-ए-नज़र में वज़ीर-ए-आज़म के इस पैग़ाम को एहमियत हासिल हो गई है।

मोदी ने अपने पैग़ाम में कहा कि यौमे अक़वाम-ए-मुत्तहिदा के मौक़े पर सबको मुबारकबाद देता हूँ। अक़वाम-ए-मुत्तहिदा ने इन्सानियत की ख़िदमत के 70 साल मुकम्मल करलिए हैं और दुनिया को एक पुरअमन मुक़ाम बनाने अपने मक़सद और अहदका पाबंद है उन्होंने मज़ीद कहा कि गांधी जी का बताया हुआ रास्ता और उनके नज़रियात अस्र-ए-हाज़िर के तक़ाज़ों से बे इंतेहा-ए-हम-आहंग हैं और अक़वाम-ए-मुत्तहिदा के मंशूर-ओ-नज़रियात से यकसानियत रखते हैं।

वाज़िह रहे कि उत्तरप्रदेश के गाँव‌ दादरी में गाय का गोश्त खाने की अफ़्वाह पर एक उम्र रसीदा मुस्लिम शख़्स को जुनूनी हुजूम के हाथों मार मार कर हलाक किए जाने और हरियाणा में एक दलित ख़ानदान को ज़िंदा जलाए जाने जैसे पर तशद्दुद वाक़ियात के पस-ए-मंज़र में गांधी जी के नज़रियात और उनके बताए हुए रास्ते से मुताल्लिक़ मोदी के रिमार्कस को नुमायां एहमियत हासिल हो गई है।

TOPPOPULARRECENT