Tuesday , August 21 2018

गाव रखशकों को ग़ैर समाजी अनासिर क़रार देने से हिंदूओं की तौहीन

नई दिल्ली 14 अगस्त: विश्वा हिंदू परिषद ने गाव रखशकों के ख़िलाफ़ वज़ीर-ए-आज़म नरेंद्र मोदी के रिमार्कस पर एतराज़ किया है और कहा है कि उन्हें ग़ैर समाजी अनासिर से ताबीर करते हुए तौहीन की है और हुकूमत से मुतालिबा किया है कि गाव रखशकों से फ़ील-फ़ौर बातचीत करे। वी एचपी के बैन-उल-अक़वामी कारगुज़ार सदर प्रवीण तोगाड़िया ने कहा है कि गाव रखशकों के ख़िलाफ़ कार्रवाई के लिए रियासतों को वज़ीर-ए-आज़म की तरफ से हिंदूओं में ब्रहमी पैदा हो गई है क्युं कि साबिक़ में हिंदूओं ने ही जानवरें के तहफ़्फ़ुज़ के लिए अपनी जानों का नज़राना पेश किया था।

वज़ीर-ए-आज़म के रिमार्कस पर फ़िक्र का इज़हार करते हुए प्रवीण तोगाड़िया ने सवाल किया है कि मुल्क के सरबराह गाव क़स्साबों को क्लीनचिट और गाव रखशकों को निशाना क्युं बनाया जा रहा है जिसकी हिमायत से वो मस्नद इक़तिदार पर पहुंचे हैं। उन्होंने कहा कि तहफ़्फ़ुज़ गाय के लिए सरगर्म हिंदूओं की सताइश और जज़बाती गाव रखशकों से संजीदा बातचीत के लिए पहल करने के बजाय 80 फ़ीसद लोगों को ग़ैर समाजी क़रार दे दिया गया है जिसके बाइस गाय माता के साथ हिंदूओं की तौहीन हो रही है जोकि गाय के तहफ़्फ़ुज़ के लिए अपनी ज़िंदगी दाओ पर लगादी है।

TOPPOPULARRECENT