Monday , December 18 2017

गिलानी के दौरा-ए-लंदन का मकशद कलीदी (अहम) मुज़ाकरात

बर्तानिया और पाकिस्तान के वुज़राए आज़म (प्रधान मंत्रियों) डेविड कैमरोन और यूसुफ़ रज़ा गिलानी दिफ़ा (रक्षा), स्कियोरटी, तिजारत, सेहत और तालीम के शोबों (क्षेत्रों) में गुजिश्ता साल से होने वाली पेशरफ़्त का जायज़ा लेते हुए अहम फ़ैस

बर्तानिया और पाकिस्तान के वुज़राए आज़म (प्रधान मंत्रियों) डेविड कैमरोन और यूसुफ़ रज़ा गिलानी दिफ़ा (रक्षा), स्कियोरटी, तिजारत, सेहत और तालीम के शोबों (क्षेत्रों) में गुजिश्ता साल से होने वाली पेशरफ़्त का जायज़ा लेते हुए अहम फ़ैसले करेंगे। गिलानी बर्तानिया के पाँच रोज़ा सरकारी दौरे पर कल शब(रात्री) लंदन पहुंचे। इस दौरे का अहम मकशद दोनों मुल्कों के दरम्यान गुजिश्ता साल शुरू किए गए तौसीई (extended) कलीदी (अहम) मुज़ाकरात के जायज़ा इजलास में शिरकत करना है।

इस मौक़ा पर वज़ीर-ए-आज़म गिलानी अपने बर्तानवी हम मंसब कैमरोन समेत आला हुकूमती और सिविल ओहदे दारों से बाहमी दिलचस्पी के उमूर और दो तरफ़ा ताल्लुक़ात में बेहतरी के ताल्लुक़ से अहम मुलाक़ातें करेंगे। लंदन में पाकिस्तानी हाई कमिशनर वाजिद शम्श उल-हसन ने कहा कि इन्हेन्सड स्ट्राटेजिक डाइलाग के जायज़ा इजलास में दोनों वुज़राए आज़म मुख़्तलिफ़ कलीदी (अहम) शोबों (क्षेत्रों) जैसे दिफ़ा, स्कियोरटी, तिजारत, सेहत और तालीम में गुजिश्ता साल से होने वाली पेशरफ़्त पर अहम फ़ैसले करेंगे।

पाकिस्तानी हुक्काम के मुताबिक़ वुज़राए आज़म की सतह पर होने वाली बातचीत में बर्तानिया और पाकिस्तान के दरम्यान 2015 तक 5.2 बिलीयन पाऊंडज़ के तिजारती हदफ़ के हुसूल (To achieve the fixed business point) के लिए रोडमैप पर भी इत्तिफ़ाक़ (राजी) किया जाएगा। वज़ीर-ए-आज़म गिलानी ऐसे वक़्त बर्तानिया का दौरा कर रहे हैं जब मंगल को सुप्रीम कोर्ट की जानिब से तौहीन अदालत के मुक़द्दमे में उन के ख़िलाफ़ तफ़सीली फ़ैसला जारी होने के बाद अपोज़ीशन की जानिब से उन से मुस्ताफ़ी होने (इस्तीफ़ा) के मुतालिबात में शिद्दत देखने में आई है।

TOPPOPULARRECENT