Wednesday , December 13 2017

गुजरात चुनाव में भाजपा और कांग्रेस की पहले आप पहले आप रणनीति

गांधीनगर: गुजरात चुनाव के लिए नामांकन प्रक्रिया शुरू होने के बावजूद सत्तारूढ़ भाजपा और मुख्य विपक्षी दल कांग्रेस कथित तौर एक सोची-समझी रणनीति के तहत अपने उम्मीदवारों की घोषणा करने के मामले में ‘पहले आप पहले आप नीति की प्रतीक्षा कर रहे हैं। गुजरात में 9 और 14 दिसंबर को दो चरण का चुनाव है। पहले चरण के लिए नामांकन पत्रों में प्रवेश करने की प्रक्रिया 14 नवंबर से शुरू हुई है, लेकिन भाजपा या कांग्रेस ने अभी तक कोई भी उम्मीदवार घोषित नहीं किया है। पहले तीन दिनों में केवल 26 नामांकन दर्ज किए गए हैं इनमें भाजपा के एक कथित तौर पर डमी उम्मीदवार है लेकिन कांग्रेस द्वारा डमी तक नहीं उतारा गया दिलचस्प बात यह है कि कांग्रेस ने पिछले साल दिसंबर में ही उम्मीदवार की घोषणा करके उन्हें तैयारी के लिए एक साल का समय देने की मैंने कहा, लेकिन यह काम अभी तक नहीं किया गया है।

पार्टी के राज्य अध्यक्ष फतेह सिंह सोलनीकी ने कुछ समय पहले कहा था कि 16 नवंबर को 70 उम्मीदवारों की पहली सूची आ जाएगी लेकिन ऐसा नहीं होगा। आज दिल्ली में कांग्रेस की केंद्रीय चुनाव समिति की बैठक हो रही है पर उम्मीदवारों की घोषणा के संबंध में कोई स्पष्टीकरण नहीं दूसरी तरफ 22 सालों से राज्य में सत्तारूढ़ भाजपा भी इस मामले में काफी फूंक-फूंक कर कदम रख रही है और अपनी सूची जारी करने कांग्रेस की सूची आने की प्रतीक्षा करने से पहले, कुछ सेट अप को आखिरी बार में बनाने की जरूरत है। पार्टी के वरिष्ठ नेता और उप मुख्यमंत्री नितिन पटेल ने तो साफ तौर पर कहा है कि पार्टी कांग्रेस के उम्मीदवारों की घोषणा का इंतेजार कर रही है।

भाजपा के एक अन्य नेता ने यूएनआई से कहा कुछ डिफ़ॉल्ट सीटों जैसे मुख्यमंत्री विजय रोपानी के लिए राजकोट पश्चिम आदि की सूची जल्द ही जारी रहेगी, लेकिन कांग्रेस की सूची अन्य सीटों के लिए इंतेजार कर रही है। पार्टी जीतने के लिए निर्धारित है, लेकिन अध्यक्ष अमित‌ शाह द्वारा निर्धारित 150 के लक्ष्य के कारण विशेष उपायों को बर्बाद किया जा रहा है। श्री शाह सूची तैयार करने के लिए कल और आज भी गांधीनगर में बैठकें कर रहे हैं।

कांग्रेस, जो इस बार पाट्रटेदार‌, दलित, ओबीसी और आदिवासियों से गठबंधन पर गुजरात में करिश्मे की उम्मीद कर रही है, यह भी कोई खतरा नहीं उठाना चाहती क्या यह है वह भी भाजपा सूची देखकर उसके हिसाब से उम्मीदवारों में बदलाव करने की रणनीति पर काम कर रही है विश्लेषकों का मानना ​​है कि कांग्रेस भी अधिक देरी होने पर अपने कुछ बड़े नेताओं की डिफ़ॉल्ट सीटों सूची भाजपा की सूची के लिए जारी और फिर इंतेजार करेंगे इंतेजार के इस खेल में पहले चरण के लिए नामांकन दाखिल करने की अंतिम तिथि 21 नवंबर तक पहुँच जाये तो कोई आश्चर्य की बात नहीं होगी, राज्य में कुल मिलाकर 182 विधानसभा सीटों में से पहले चरण में सौराष्ट्र और दक्षिण गुजरात के 19 जिलों की 89 सीटों पर और दूसरे चरण में, 14 जिलों में 93 सीटों के लिए मतदान होगा।

दूसरे चरण के लिए नामांकन पत्र 20 से 27 नवंबर तक होंगे। मतगणना 18 दिसंबर को होगी एक अन्य नेता ने यूएनआई से कहा कुछ डिफ़ॉल्ट सीटों जैसे मुख्यमंत्री विजय रोपानी के लिए राजकोट पश्चिम आदि की एक सूची शायद जल्द ही जारी हो पर अन्य कुर्सियों के लिए कांग्रेस की सूची का इंतेजार किया जाएगा। पार्टी जीतने के लिए निर्धारित है, लेकिन अध्यक्ष अमित‌ शाह द्वारा निर्धारित 150 के लक्ष्य के कारण विशेष उपायों को बर्बाद किया जा रहा है।

श्री शाह सूची तैयार करने के लिए कल और आज भी गांधीनगर में बैठकें कर रहे हैं। कांग्रेस, जो इस बार पट्टेदार, दलित, ओबीसी और आदिवासियों से गठबंधन पर गुजरात में करिश्मा की उम्मीद कर रही है, यह भी कोई खतरा नहीं उठाना चाहती है वह भाजपा की सूची को देखकर उम्मीदवार को बदलने की रणनीति पर भी काम करता है। राजनीतिक विश्लेषकों का मानना ​​है कि कांग्रेस ने अपने कुछ प्रमुख नेताओं के डिफ़ॉल्ट नेताओं की सूची में देरी की है भाजपा की सूची के लिए जारी और फिर इंतेजार करेंगे इंतेजार के इस खेल में पहले चरण के लिए नामांकन दाखिल करने की अंतिम तिथि 21 नवंबर तक पहुँच जाये तो कोई आश्चर्य की बात नहीं होगी।

राज्य में कुल मिलाकर 182 विधानसभा सीटों में से पहले चरण में सौराष्ट्र और दक्षिण गुजरात के 19 जिलों की 89 सीटों पर और दूसरे चरण में, 14 जिलों में 93 सीटों के लिए मतदान होगा। दूसरे चरण के लिए नामांकन पत्र 20 से 27 नवंबर तक होंगे। वोटों की गिनती 18 दिसंबर को होगी। प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी और बीजेपी के अध्यक्ष अमित शाह दोनों देशों में इस चुनाव में देश और दुनिया की नज़रें हैं।

TOPPOPULARRECENT