Tuesday , January 16 2018

गुजरात मॉडल बना बदहाल मॉडल, सवर्णों के कहर के चलते दलित गांव छोड़ने पर मजबूर

अहमदाबाद: एक ही घाट पर शेर और बकरी को पानी पिलाने की बात कहने वाले पीएम मोदी की यह कथन अब खोखली साबित होने जा रही है. दरअसल गुजरात के संतालपुर तालुका के पार गांव में सवर्णों ने लगातार दलितों पर कहर ढा रहा है जिससे दलित मजबूर होकर गाँव छोड़ रहे है.

Facebook पे हमारे पेज को लाइक करने के लिए क्लिक करिये

नेशनल दस्तक के मुताबिक, दलित कार्यकर्ता ने बताया कि उन कांड के बाद जब से दलितों ने मरे हुए जानवरों को उठाने से मन कर दिया है, तब से यानि लगभग 6 महीने से अपरकास्ट के लोगों ने दलितों पर कहर बरपा रहे हैं और उनका बहिष्कार भी करते है.

बता दें कि पार गांव के दलितों के पलायन की ये दूसरी घटना है. जिसमे रानदेज गांव के अपरकास्ट के लोगों ने दलितों को मंदिर में सेरेमनी के दौरान अलग बैठने के लिए कहा था. इतना ही नहीं आयोजनकर्ताओं ने भी दलितों को भोजन देने से इंकार कर दिया था.

उल्लेखनीय है कि बता दें कि यह घटना ऐसी जगह की है जहां के बारे में आप सोच भी नहीं सकते, क्योंकि बड़ी बड़ी बात करने मोदी के ही घर में ऐसा तो कैसे यकीन होगा, इससे यह साफ पता चलता है कि पीएम सिर्फ डींगे हांकते हैं और काम कुछ नहीं.

TOPPOPULARRECENT