Tuesday , December 12 2017

गुजरात से फ़ोन करने वालों ने ख़ुद को अमरीकी महकमा का ओहदेदार ज़ाहिर किया

गुजरात के एक काल सैंटर के कारकुनों ने ख़ुद को अमरीकी नेफ़ाज़ क़ानून महकमों के ओहदेदार ज़ाहिर किया और तकरीबन 85 लाख धमकी आमेज़ टेलीफोन काल्स गुज़श्ता आठ माह में अमरीका के सारफ़ीन को किए । अमरीकी वेफ़ाक़ी ओहदेदारों का दावा है कि अद

गुजरात के एक काल सैंटर के कारकुनों ने ख़ुद को अमरीकी नेफ़ाज़ क़ानून महकमों के ओहदेदार ज़ाहिर किया और तकरीबन 85 लाख धमकी आमेज़ टेलीफोन काल्स गुज़श्ता आठ माह में अमरीका के सारफ़ीन को किए । अमरीकी वेफ़ाक़ी ओहदेदारों का दावा है कि अदाएगी की दस्तावेज़ात और उन टेलीफोन काल्स के वि ओ टी पी पत्तों के एतबार से वेफ़ाक़ी तिजारती कमेटी ने ये फैसला किया है कि ज़ीवस कारपोरेशन के ज़ेर-ए-इंतज़ाम काल सेंटर जिस का पता अहमदाबाद का है बंद कर दिया जाय ।

इस काल सेंटर के ख़िलाफ़ शिकायत की गई है कि अमरीकी सारेफ़ीन को दो करोड़ टेलीफोन काल्स हिंदूस्तान से वसूल हुए जिन में रक़म की अदाएगी के लिए ज़ोर दिया गया । जनवरी 2010 से जब कि कार्रवाई में शिद्दत पैदा हुई 50 लाख अमरीकी डालर मुतासरीन से वसूल किए गए । रक़म वसूल करने वालों में फ़ी टेलीफोन काल 300 ता 2000 अमरीकी डालर का मुतालिबा किया । उन्हों ने इस के लिए सरका किए हुए शख़्सी मालूमात और सेमाजी सिक्योरिटी नंबर्स इस्तिमाल किए थे ।

TOPPOPULARRECENT