गुलबर्ग सोसाईटी मामले ‘सजा की प्रकृति का आज घोषणा की उम्मीद

गुलबर्ग सोसाईटी मामले ‘सजा की प्रकृति का आज घोषणा की उम्मीद
Click for full image

अहमदाबाद: विशेष एसआईटी अदालत जिसने 2002 माबाद गोधरा गुलबर्ग सोसाइटी नरसंहार मामले में 2 जून को 24 आरोपियों को दोषी करार दिया गया था उम्मीद है कि सजा की तरह का कल फैसला सुनाएगी। अभियोजन पक्ष की ओर से 11 अपराधियों को जिन पर हत्या का आरोप है मौत की खवाहश की जा सकती है, जबकि इन अपराधियों के वकील सजा उम्र कैद लिए जोर देंगे।

विशेष अदालत के न्यायाधीश पी बी देसाई ने 2 जून को 66 आरोपियों के जुमला 24 सहित विहिप नेता को दोषी करार दिया था। गुलबर्ग सोसाईटी नरसंहार में 69 लोगों सहित पूर्व कांग्रेस सांसद एहसान जाफरी की हत्या कर दी थी ’66 आरोपियों के जुमला छह मुकदमेबाजी के दौरान मौत हो गई ’24 अपराधियों में 11 पर हत्या का आरोप है जबकि 13 अन्य सहित विहिप नेता अतुल वेदी को कमतर अपराध का दोषी करार दिया गया।

अदालत ने फैसला सुनाते हुए कहा था कि मामले में अपरमाह साजिश का कोई सबूत नहीं है। इसलिए भारतीय दंड संहिता की धारा 120-B के तहत आरोपों से बरी कर दिया गया .गलबरग सोसाईटी मुकदमा 2002 गुजरात दंगों के उन 9 मामलों में एक है जिनकी सुप्रीम कोर्ट की ओर से मकरर्करदा एसआईटी जांच कर रही है।

Top Stories