Sunday , September 23 2018

गुस्ताखाना ( इस्लाम का अपमान करने वाली) फ़िल्म के ख़िलाफ़ बंगला देश में पुरतशद्दुद एहतिजाज, 25 ज़ख़मी

ढाका, २३ सितंबर (पी टी आई) इस्लामी जमातों से ताल्लुक़ रखने वाले हज़ारों कारकुनों ( कार्यकताओं) ने आज बंगला देश में रैलीयों पर इमतिना ( रोक) की ख़िलाफ़वरज़ी करते हुए गुस्ताखाना ( इस्लाम को अपमानित करने वाली) फ़िल्म के ख़िलाफ़ ज़बरदस्त एहति

ढाका, २३ सितंबर (पी टी आई) इस्लामी जमातों से ताल्लुक़ रखने वाले हज़ारों कारकुनों ( कार्यकताओं) ने आज बंगला देश में रैलीयों पर इमतिना ( रोक) की ख़िलाफ़वरज़ी करते हुए गुस्ताखाना ( इस्लाम को अपमानित करने वाली) फ़िल्म के ख़िलाफ़ ज़बरदस्त एहतिजाजी मुज़ाहरा ( प्रदर्शन) किया। इस मौक़ा पर उन की पुलिस के साथ झड़प हो गई और एहतिजाजियों को मुंतशिर ( तितर बितर) करने के लिए पुलिस ने ना सिर्फ आँसू गैस बल्कि ताक़त का भी इस्तेमाल किया।

एहितजाजी मुज़ाहिरीन जो पुलिस पर संगबारी ( पथराव) कर रहे थे, उन्हें मुंतशिर ( तितर बितर) करने के लिए ये कार्रवाई की गई लेकिन इस झड़प में तक़रीबन ( लगभग) 30 अफ़राद ( लोग) ज़ख़मी हो गए। बंगला देश में 12 छोटी इस्लामी जमातों पर मुश्तमिल ( सम्मिलित) इत्तिहाद (एकता) ने आज मुल्क गीर ( पूरा देश ) बंद का ऐलान किया था।

इन जमातों से ताल्लुक़ रखने वाले तक़रीबन 40 कारकुनों को एहतिजाजी मुज़ाहरा मुनज़्ज़म ( संगठित) करने की कोशिश पर गिरफ़्तार किया गया। ऐनी शाहिदीन ने बताया कि प्रेस कलब के रूबरू (सामने) हज़ारों एहतिजाजी इमतिनाई अहकाम (प्रदर्शन पर लगे रोक) की ख़िलाफ़वर्ज़ी करते हुए सड़कों पर निकल आए और उन की पुलिस के साथ झड़प हो गई।

मुक़ामी ( स्थानीय) मीडीया की इत्तिला के मुताबिक़ 30 अफ़राद बिशमोल ( जिसमें) मुलाज़मीन पुलिस इस झड़प में ज़ख़मी हुए। मुज़ाहिरीन ने प्रेस कलब के क़रीब एक मोटर बाईकल को नज़र-ए-आतिश कर दिया और क़रीबी सड़क पर खड़ी तीन गाड़ीयों को भी नुक़्सान पहुंचाया।

ये झड़प तक़रीबन एक घंटा जारी रही और पुलिस ने तक़रीबन 20 आँसू गैस के शेल्स बरसाए। मुज़ाहिरीन को मुंतशिर ( तितर बितर) करने के लिए पुलिस ने सड़कों की नाका बंदी कर दी थी और प्रेस कलब की सिम्त आने वाली ट्रैफ़िक का रुख दूसरी तरफ़ मोड़ दिया गया था।

आँसू गैस के शेल्स की वजह से सारे इलाक़ा में हर तरफ़ धुआँ नज़र आ रहा था और इस वक़्त प्रेस कलब में कई सहाफ़ी ( पत्रकार) मौजूद थे जो उस की ज़द में आ गए। एक पुलिस ओहदेदार ने बताया कि बंगला देश ख़िलाफ़त आंदोलन के सरबराह मौलाना शाह अहमद उल्लाह अशरफ़ और इस्लामी ओकयाजोटे सेक्रेटरी जनरल अब्दुल लतीफ़ निज़ामी के इलावा दीगर ( दूसरो) को तशद्दुद में मुलव्वस होने की बिना गिरफ़्तार कर लिया गया।

पुलिस प्रेस कलब की 3 गेटों पर अब भी कड़ी नज़र रखे हुए है। शुबा है कि कई एहतिजाजी गिरफ़्तारी से बचने के लिए यहां छिपे हुए हैं। वज़ीर-ए-आज़म शेख़ हसीना वाजिद ने जारीया हफ़्ता इस गुस्ताखाना फ़िल्म की सख़्त मुज़म्मत की थी। असल अपोज़ीशन ( विपक्ष) बंगला देश नेशनलिस्ट पार्टी सरबराह खालिदा ज़िया ने भी इस फ़िल्म की मुज़म्मत ( निंदा) की।

बंगला देश ने इस गुस्ताखाना फ़िल्म से मरबूत ( संबंधित) तमाम वेबसाईट्स को बलॉक करा दिया है। इस फ़िल्म की वजह से आलम इस्लाम में पुरतशद्दुद मुज़ाहिरों का सिलसिला जारी है। नाईजीरिया के दूसरे सब से बड़े शहर कानू में आज हज़ारों अफ़राद मुख़ालिफ़ अमेरीका नारे लगाते हुए एहतिजाजी मुज़ाहरा किया।

गुस्ताखाना फ़िल्म के ख़िलाफ़ मुज़ाहिरीन ने शदीद ब्रहमी ( सख्त गुस्से) का इज़हार किया और अमेरीका से इस फ़िल्म के इंटरनेट के ज़रीया मज़ीद फैलाओ पर पाबंदी के साथ साथ ज़िम्मादारान के ख़िलाफ़ कार्रवाई का मुतालिबा कर रहे थे।

ऐनी शाहिदीन ने (Eye Witnesss) बताया कि एहतिजाजी मुज़ाहिरीन इस क़दर ज़्यादा तादाद में थे कि शहर का कई किलो मीटर रकबा इंसानी सुरों का समुंद्र नज़र आ रहा था, वो उस वक़्त मुख़ालिफ़ अमरीका और मुख़ालिफ़ इसराईल नारे लगा रहे थे।

एक मुवाफ़िक़ (दोस्त/मित्र) ईरान ग्रुप इस्लामिक मूवमेन्ट आफ़ नाईजीरिया ने चंद दिन क़बल ही शुमाली शहर जोरिया में ईसी तरह का एहतिजाज किया था। वो सदर अमेरीका बारक ओबामा की तसावीर लिए अमेरिका नौ के महल की सिम्त मार्च कर रहे थे। इस वक़्त बाअज़ मुज़ाहिरीन ईरानी पर्चम थामे हुए थे। नाईजीरिया में एहतिजाजी मुज़ाहिरे अब तक मजमूई ( कुल मिलाकर/ सामूहिक) तौर पर पुरअमन रहे।

TOPPOPULARRECENT