Tuesday , January 23 2018

गै़रक़ानूनी तौर पर अमरीका भेजने वाला रैकेट बेनकाब , 4 गिरफ़्तार

नई दिल्ली, २१ जनवरी (पी टी आई) चार अफ़राद की गिरफ़्तारी के साथ आज पुलिस ने दावा किया कि वो इंदिरा गांधी इंटरनैशनल अर पोर्ट पर लावारिस सामान से 105 पासपोर्टस ज़बत करने के इसरार और बड़े पैमाने पर बर्दाफ़रोशी के रैकेट का पर्दा फ़ाश कर चुकी है,

नई दिल्ली, २१ जनवरी (पी टी आई) चार अफ़राद की गिरफ़्तारी के साथ आज पुलिस ने दावा किया कि वो इंदिरा गांधी इंटरनैशनल अर पोर्ट पर लावारिस सामान से 105 पासपोर्टस ज़बत करने के इसरार और बड़े पैमाने पर बर्दाफ़रोशी के रैकेट का पर्दा फ़ाश कर चुकी है, जिस में लोगों को गै़रक़ानूनी तौर पर अमेरीका रवाना करने वाला गिरोह मुलव्वस है।

जनवरी को कस्टम ओहदेदारों ने एक लावारिस बैग पुलिस के हवाले किया था। तहक़ीक़ात के दौरान पता चला कि इस में 105 पासपोर्टस थे, जो साइन रजनी कांत त्रिवेदी का था। जो अहमदाबाद का मुतवत्तिन है। इस के ब्यान की बुनियाद पर मज़ीद तीन अफ़राद को गिरफ़्तार किया गया।

पुलिस के बमूजब ये गिरोह क़तर, तुर्की और अमीरात एयरलाईंस के ज़रीया लोगों को गै़रक़ानूनी तौर पर अमेरीका बराह गोटे माला रवाना किया करता था। गै़रक़ानूनी तारकीन-ए-वतन को जंगलों के रास्ते अमेरीका में दाख़िल किया जाता था। ये गिरोह हर शख़्स से इसके लिए 6 से 12 लाख रुपय और अमेरीका में दाख़िला को यक़ीनी बनाने 25 से 30 लाख रुपय हासिल करता था।

TOPPOPULARRECENT