Tuesday , December 12 2017

गोवा के राज्यपाल पर चर्चा की अनुमति नहीं मिलने से दिग्विजयसिंह हुए नाराज़

NEW DELHI, INDIA - MAY 22: Congress General Secretary and Rajya Sabha MP Digvijay Singh addressing a press conference after the completion of one year of Modi Government at AICC on May 22, 2015 in New Delhi, India. Targetting the one-year rule of Modi government, Congress General Secretary said that while the Prime Minister is busy 'beating drums' and 'playing violin' from Japan to Monglia, a grave agrarian crisis of unprecedented scale plagues the farm sector. (Photo by Sonu Mehta/Hindustan Times via Getty Images)

नई दिल्ली। कांग्रेस सदस्य दिग्विजय सिंह ने आज राज्यसभा में गोवा की राज्यपाल की भूमिका पर चर्चा करने के लिए दिए गए अपने विशिष्ट प्रस्ताव को सूचीबद्ध न किए जाने का मुद्दा उठाया। उन्होंने आसन पर अपने प्रति ‘अन्यायपूर्ण’ रवैया अपनाने का आरोप लगाया।

हालांकि आसन की ओर से कहा गया कि इस बारे में वह कुछ नहीं कर सकते, क्योंकि सरकार की ओर से समय मिलने के बाद ही प्रस्ताव को चर्चा के लिए सूचीबद्ध किया जा सकता है। सिंह ने कहा कि कल संसद के बजट सत्र का आखिरी दिन है और गोवा की राज्यपाल की भूमिका पर चर्चा करने के लिए उन्हें अभी तक समय नहीं दिया गया है।

उन्होंने कहा ‘गोवा की राज्यपाल ने असंवैधानिक तरीके से काम किया और विधानसभा चुनाव में अकेले सबसे बड़े दल के तौर पर उभरी पार्टी को सरकार बनाने के लिए आमंत्रित नहीं किया। वह सरकारिया आयोग की सिफारिशों के खिलाफ गईं।’ गौरतलब है कि कांग्रेस ने गोवा में बहुमत हासिल करने के लिए भाजपा पर अनैतिक तौर तरीके अपनाने का आरोप लगाया था।

TOPPOPULARRECENT