गौरक्षा का पाखंड रच रही बीजेपी बताए कि जूते किस चमड़े के पहनती है: नीतीश कुमार

गौरक्षा का पाखंड रच रही बीजेपी बताए कि जूते किस चमड़े के पहनती है: नीतीश कुमार
Click for full image

कानपुर में हो रही एक रैली के दौरान बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने देशभर में गाय पर चल रहे विवाद पर आरएसएस और गौ रक्षकों राय दी है कि अगर बीजेपी और आरएसएस को गाय और नीलगायों से इतना ही प्यार है तो वे गायों को ले जाकर शाखाओं में रख ले।  नीतीश ने बिहार में नीलगायों को मरवाने वाले अपने फैसले को भी जायज बताते हुए कहा कि हम जानभूझ कर थोड़ी जानवरों को मारना चाहते हैं।  बिहार के किसानों के लिए ये नीलगाय बहुत बड़ी परेशानी बन गई थीं जिसके कारण जब हमने उन्हें मारने का फैसला किया तो मेनका गांधी जानवरों के अधिकारों की बात करने लगीं। मेरा कहना है कि अगर आपको  गाय और नीलगाय से इतनी ही हमदर्दी है तो उन्हें ले जाकर अपने घरों या शाखा में रखें न कि बाहर लोगों की परेशानी बढ़ाने के लिए उन्हें खुला घूमने दें।

गौरक्षा का हवाला देती फिरती आरएसएस को यूपी में गौ रक्षा शाखा खोल लेनी चाहिए तांकि पशुओं की वजह से सड़क पर होने वाले एक्सीडेंट थोड़े कम हो जाएं। उन्होंने आरएसएस पर आरोप लगाया कि मरी हुई गाय की चमड़ी उतारने से मना करने वाले बीजेपी के नेता ही लेदर के जूते पहनते हैं। JDU के कार्यकर्ता  बीजेपी के कार्यकर्ताओं और नेताओं के जूतों की फोटो खींचे और  फिर इनसे पूछें कि यह किसके चमड़े से बना है।

Top Stories