घर वापसी’ में रुकावट न बने हुकूमत : आदित्‍यनाथ

घर वापसी’ में रुकावट न बने हुकूमत  : आदित्‍यनाथ
बीजेपी एमपी योगी आदित्यनाथ ने यहां मुनक्कीद 'संत समागम' में कहा कि बाबरी मस्जिद को ढहाकर हिंदुओं ने आपसी इत्तिहाद दिखाई थी। उन्‍होंने मरकज़ी हुकूमत से दरख्वास्त की कि वह 'घर वापसी' के मुद्दे में दखल न दे। उन्होंने हिंदुओं से इत्तिह

बीजेपी एमपी योगी आदित्यनाथ ने यहां मुनक्कीद ‘संत समागम’ में कहा कि बाबरी मस्जिद को ढहाकर हिंदुओं ने आपसी इत्तिहाद दिखाई थी। उन्‍होंने मरकज़ी हुकूमत से दरख्वास्त की कि वह ‘घर वापसी’ के मुद्दे में दखल न दे। उन्होंने हिंदुओं से इत्तिहाद बनाए रखने का एलान भी किया। योगी ने ‘माला के साथ भाला’ का मंत्र देते हुए कहा कि अगर 15 लाख संत 6.23 लाख गांवों में जाने लगें तो मुट्ठी भर ईसाई धर्मगुरु और मौलवी हिंदुओं का मजहब तब्दील नहीं कर सकेंगे।

योगी ने मठों और मंदिरों के सदर से दरख्वास्त की कि वे गांव-गांव जाकर हिंदुओं को मुत्तहिद करें। उन्होंने पूछा- जब नालंदा यूनिवर्सिटी को बर्बाद किया गया तो हमने इसकी परवाह क्यों नहीं की? हमने यह जानने की कोशिश क्यों नहीं की कि नांलदा यूनिवर्सिटी को किसने बर्बाद किया? योगी ने कहा कि संतों ने लोगों से मिलना-जुलना बंद कर दिया है। हमें अपनी ताकत को पहचानना होगा। उन्होंने इल्ज़ाम लगाया कि जब हिंदू अपना मजहब बदलते हैं, तो ओपोजीशन चुप्पी साध लेता है, लेकिन वह घर वापसी का मुखालिफत करता है।

बिहार में यह संत समागम मरकज़ में बीजेपी की हुकूमत आने के बाद पहली बार हुआ है। बिहार में अगले साल एसेम्बली इंतिखाब भी होने हैं। मरकज़ी वज़ीर रामकृपाल यादव और लोक जनशक्ति पार्टी के राम विसाल पासवान भी संत समागम में हिस्सा लेंगे। समागम तीन दिनों तक चलेगा। योगी ने वहां जुटे लोगों को हदफ़ दिलाई कि वे जबरदस्ती कराए जाने वाले मजहब तब्दील का मुखालिफत करेंगे, लेकिन उन हिंदुओं का इस्तकबाल करेंगे जिनकी घर वापसी हुई है।

योगी आदित्यनाथ ने कहा कि जिन जगहों पर हिंदुओं की तादाद कम हो रही है, वहां क़ौमी-मुखालिफत सरगरमियां ज़ोरों पर हैं। इसलिए मुल्क की सकाफात की हिफाजत के लिए हिंदुओं का मजहब तब्दील रोका जाना चाहिए। उन्होंने कहा कि जो हिंदू रास्ता भटककर मुस्लिम या ईसाई बन गए हैं, हमें उनकी घर वापसी का इस्तकबाल करना चाहिए।

Top Stories