Saturday , December 16 2017

घाटी कश्मीर में हिंसा से मरने वालों की संख्या 24 हो गई

श्रीनगर: घाटी कश्मीर के कई इलाकों सहित शहर श्रीनगर के कुछ भागों और जिला पुलवामा के कुछ क्षेत्रों में कर्फ्यू आज भी जारी रहा। अधिकारियों ने अधिक विरोध प्रदर्शन का लगातार चौथे दिन भी आशंका जताई है। बुरहान वाणी कमांडर हिजबुल मुजाहिदीन सेना के हाथों मारे जाने के बाद हिंसक विरोध शुरू हुआ था। सेना के साथ प्रदर्शनकारियों की झड़पों में 24 लोग अभी भी मारे गए हैं। कल विरोध प्रदर्शन के दौरान घायल होने वाला युवा आदिल अहमद मट्टू आज बीज बहरा एस एम एच एस अस्पताल में रात देर गए घावों से जांबर ना होसका।

350 से अधिक लोगों सहित 115 सैनिक संघर्ष में घायल हो गए हैं। अधिकारी चौथे दिन भी लगातार विरोध प्रदर्शन की आशंका हैं। उपायुक्त पुलवामा मुनीर अल इस्लाम ने कहा कि सरकार कल सभी राशन की दुकानें खोल देगी परंतु आज का दिन शांतिपूर्ण गुजर जाए। उन्होंने कहा कि सीमाएं सख्ती के साथ लागू की जा रही हैं ताकि आगे जाना या वित्तीय नुकसान न होने पाए।

मोबाइल और इंटरनेट सेवाओं अब तक निलंबित हैं। एक सरकारी अधिकारी ने कहा कि अगर स्थिति आज शांतिपूर्ण रही तो कल सार्वजनिक अवकाश के बावजूद राशन की दुकानें खोली जाएंगी। पूरी घाटी कश्मीर के जलजनित क्षेत्रों और श्रीनगर के संवेदनशील इलाकों में सेना की संख्या में वृद्धि कर दी गई है। पूरी घाटी में मोबाइल, इंटरनेट, ट्रेन सेवाएं आज चौथे दिन भी निलंबित रहीं।

दक्षिण कश्मीर के 4 जिलों में मोबाइल टेलीफोन कार्करद दिए गए। घाटी कश्मीर में अलगाववादियों की हड़ताल के कारण जनजीवन प्रभावित हुए। सड़कों पर सरकारी वाहन नजर नहीं आ रही थीं जबकि घरेलू कारों और ऑटो रिक्शा चल रहे थे। शैक्षिक संस्थान बंद थे। कश्मीर की केंद्रीय विश्वविद्यालय इस्लामी विश्वविद्यालय कृपया विज्ञान और प्रौद्योगिकी और जम्मू-कश्मीर मंडल स्कूल शिक्षा परीक्षाओं वर्तमान स्थिति की वजह से स्थगित कर दिए गए हैं।

अधिकांश अलगाववादी नेताओं जैसे सैयद अली शाह गिलानी, मीरवाइज़ उमर फ़ारूक़ और मोहम्मद यासीन मलिक अब तक आभरहराज्य या घरों में नजरबंद हैं। सरकारी अधिकारी ने कहा कि किसी भी जानी या माली नुकसान से बचने के लिए सीमाएं सख्ती से लागू की गई हैं।

TOPPOPULARRECENT