Monday , December 11 2017

घाटी में पत्थरबाजी करने वाले लोगों को कंट्रोल करने के लिए सेना ने बनाया नया प्लान

श्रीनगर: जम्मू-कश्मीर में सीमा से सटे इलाकों में घुसपैठ करने के लिए आतंकी वहां के कुछ स्थानीय लोगों को सहारा लेकर सुरक्षा बलों और सेना की नजर में न आने की कोशिश करते हैं। इस कोशिश के चलते घाटी में प्रदर्शनकारी और सुरक्षा बलों में मुठभेड़ आम बात हो गई है। इस मुठभेड़ में लोग सेना पर पत्थरबाजी करते हैं जिससे सेना का ध्यान लोगों की तरफ हो जाने से आतंकी आसानी से घुसपैठ कर पाते हैं और इलाके में छिप जाते हैं।

सेना का का कहना है कि लोगों द्वारा ऐसे हालात बनाने पर हमारी लिए आतंकियों से निपटना बहुत मुश्किल हो जाता है। यह आतंकियों की नई तरकीब है जिससे वह सुरक्षा बलों का ध्यान भटका कर घुसपैठ करने में काफी सहूलियत मिल रही है। सेना और सुरक्षा बलों के सामने सबसे बड़ी चुनौती यह होती है कि उन्हें आम लोगों को इस पूरी कार्रवाई से अलग रखना होता है। इसके चलते उन्हें बहुत संभाल का हथियारों का इस्तेमाल करना पड़ता है ताकि इससे आम लोगों को कोई नुक्सान न पहुंचे लेकिन आतंकवादी लोगों के घरों में छुपकर आम नागरिकों को अपनी ढाल बनाते हैं।

इसलिए सेना ने इन पत्थर फेंकने वालों से निपटने के लिए एक रणनीति तैयार की है। 15 फरवरी को हुई एक बैठक में सेना पर पथराव करने वालों के लिए 4-चरणों की एक ख़ास रणनीति तैयार की गई है। इन नए नियमों की जानकारी सेना, केंद्रीय अर्धसैनिक बलों, जम्मू-कश्मीर सरकार और प्रदेश पुलिस के पास भेज दी गई है।

TOPPOPULARRECENT