चंद अफ़राद को मेरी मौत का बेचैनी से इंतेज़ार:विजय शांति

चंद अफ़राद को मेरी मौत का बेचैनी से इंतेज़ार:विजय शांति
फ़िल्मी अदाकारा से सियासतदां बनने वाली मेदक की रुकन लोक सभा विजय शांति ने आज यहां इंतेहाई सनसनीखेज़ तबसरा करते हुए कहा कि चंद अफ़राद मेरी मौत का बेचैनी का इंतेज़ार कररहे हैं।

फ़िल्मी अदाकारा से सियासतदां बनने वाली मेदक की रुकन लोक सभा विजय शांति ने आज यहां इंतेहाई सनसनीखेज़ तबसरा करते हुए कहा कि चंद अफ़राद मेरी मौत का बेचैनी का इंतेज़ार कररहे हैं।

मेदक में रेलवे स्टेशन पर रस्म संगगे बुनियाद के एक प्रोग्राम से ख़िताब करते हुए विजय शांति ने कहा कि वो पिछ्ले 10 साल से तेलंगाना काज़ के लिए लड़ रही हैं और चंद अफ़राद उन्हें बे रहमाना और ज़ालिमाना मंसूबों के ज़रीये सब से अलग थलग करने की कोशिशों में मसरूफ़ हैं।

उन्होंने इस रेमार्क के ज़रीये बिलवासता तौर पर ये इल्ज़ाम आइद किया कि उनकी पीठ में ख़ंजर भौंक रही है। उन्होंने एसे क़ाइदीन को मश्वरह दिया कि वो इन (विजय शांति) के ख़िलाफ़ साज़शं बंद करें और अवाम की फ़लाह-ओ-बहबूद के लिए मुख़लिसाना ख़िदमात करें।

वजय शांति ने कहा कि सियासत की कोई एहमीयत नहीं होती बल्कि अवाम के दिल जीतना अहम होता है। वजय शांति ने याद दिलाया कि वो हुक्मराँ जमात नहीं हैं बल्कि अप्पोज़ीशन से वाबस्ता हैं। एक मरहले पर वो ग़ैरमामूली तौर पर जज़बात से मग़्लूब होगई और कहा कि अब तो ना वो हुक्मराँ जमात हैं और ना अप्पोज़ीशन में बल्कि तन्हा होगई हैं।

Top Stories