चक्रवाती तूफान को लेकर आंध्र प्रदेश के तटवर्ती इलाकों में हाई अलर्ट

चक्रवाती तूफान को लेकर आंध्र प्रदेश के तटवर्ती इलाकों में हाई अलर्ट

बेहद प्रचंड रूप ले चुके चक्रवाती तूफान तितली के गुरुवार को बंगाल की खाड़ी पार करने की आशंका को देखते हुये आंध्र प्रदेश के उत्तरी तटीय जिलों में बुधवार को हाई अलर्ट जारी किया गया।

तूफान की रफ्तार 165 किलोमीटर प्रति घंटे तक बढ़ रही है और उसके कारण भारी बारिश और तबाही आने की आशंका है। अधिकारियों ने यह जानकारी दी।

राज्य आपदा प्रबंधन प्राधिकरण ने यहां कहा कि चक्रवाती तूफान के चपेट में आने की आशंका के बीच मछुआरे को समुद्र में प्रवेश नहीं करने की चेतावनी दी गई है।

एसडीएमए ने कहा कि भयंकर चक्रवाती तूफान 11 अक्टूबर को सुबह 11.30 बजे तक जारी रहेगा और हवा की तीव्रता 140 से 150 किलोमीटर प्रति घंटा रहेगी, जो 165 किलोमीटर प्रति घंटा तक पहुंच जाएगी। तूफान आंध्र प्रदेश के श्रीकाकुलम के पास से गुजरेगा।

एसडीएमए ने बताया कि इससे बड़े पैमाने पर संपत्तियों का नुकसान होने की आशंका है। खगोलीय ज्वार की तुलना में अधिक वेग से श्रीकाकुलम के निचले इलाकों में तूफान पहुंचने की आशंका है।

राष्ट्रीय आपदा मोचन बल (एनडीआरएफ) की एक टीम को श्रीकाकुलम में तैनात कर दिया गया है, जबकि विशाखापत्तनम में तीन अन्य टीमों को तैयार रखा गया है। दक्षिण मध्य रेलवे ने एक विज्ञप्ति में कहा कि सिकंदराबाद-हावड़ा फलकनुमा एक्सप्रेस का मार्ग बदल दिया गया है।

राज्य आपदा प्रबंधन प्राधिकरण ने आपदा के वक्त लोगों की सहायता के लिए अपने आपातकालीन अभियान केंद्र पर टोल-फ्री टेलीफोन नम्बर 18004250101 जारी किया है, जबकि तीन तटीय जिलों में नियंत्रण कक्षों को चालू कर दिया गया है।

राज्य के आपदा आयुक्त एम सेशगिरी बाबू ने कहा कि हमनें संबंधित जिला प्रशासनों को हाई अलर्ट पर रखा है। बेहद खतरनाक चक्रवाती तूफान को देखते हुये लोगों को सुरक्षित रहने और ज्यादातर समय घर के भीतर रहने के लिए परामर्श जारी किया गया है।

Top Stories