Sunday , December 17 2017

चलती ट्रेन में खातून से इशमतरेज़ि, गिरफ्तारी के बाद मुल्ज़िम फरार

पटना-किऊल भोजपुर सवारी गाड़ी में एक खातून से इशमतरेज़ि की वाकिया सामने आयी है। चलती ट्रेन में हुई इस वारदात के मुल्ज़िम को जीआरपी ने मोकामा स्टेशन पर गिरफ्तार कर लिया, लेकिन मेडिकल जांच के दौरान वह पुलिस की गिरफ्त से फरार हो गया।

पटना-किऊल भोजपुर सवारी गाड़ी में एक खातून से इशमतरेज़ि की वाकिया सामने आयी है। चलती ट्रेन में हुई इस वारदात के मुल्ज़िम को जीआरपी ने मोकामा स्टेशन पर गिरफ्तार कर लिया, लेकिन मेडिकल जांच के दौरान वह पुलिस की गिरफ्त से फरार हो गया।

मुतासिरा खगड़िया की रहनेवाली है, जबकि मुल्ज़िम की शिनाख्त नालंदा जिले के दीपनगर थाने के देवधा गांव के रहने वाले दीपक सिंह के तौर में की गयी है। मुतासिरा जुमेरात की देर रात जयनगर-पटना इंटरसिटी से मोकामा आ रही थी, लेकिन मोकामा स्टेशन पर उतरने के बदले वह बख्तियारपुर चली गयी। वहां से मोकामा लौटने के लिए वह पटना-किऊल भोजपुर सवारी गाड़ी में सवार हो गयी।

इस दौरान बोगी में उसे अकेला देख कर पंडारक व मोकामा के दरमियान दीपक सिंह ने उसके साथ इशमतरेज़ि किया। जब जुमेरात की रात डेढ़ बजे ट्रेन मोकामा स्टेशन पहुंची, तो मुतासिरा ने शोर मचाया। इसके बाद मुसाफिरों ने मुल्ज़िम को पकड़ लिया और जीआरपी के हवाले कर दिया। मुतासिरा की शिकायत पर मोकामा रेल थाने में मामला दर्ज किया गया। जुमा को जीआरपी मेडिकल जांच के लिए मुतासिरा और मुल्ज़िम को लेकर बाढ़ डिवीजन अस्पताल पहुंची, जहां मेडिकल जांच के दौरान मुल्ज़िम हथकड़ी सरका कर फरार हो गया। इसके बाद अफरा-तफरी मच गयी। जीआरपी मुल्ज़िम की तलाश में छापेमारी की बात कह रही है, लेकिन अब तक उसका कोई सुराग नहीं मिल पाया है।

TOPPOPULARRECENT