Saturday , November 25 2017
Home / Ghazal / “चले भी आओ कि गुलशन का करोबार चले”, फै़ज़ की ग़ज़ल

“चले भी आओ कि गुलशन का करोबार चले”, फै़ज़ की ग़ज़ल

फै़ज़ अहमद 'फै़ज़'

गुलों में रंग भरे, बाद-ए-नौबहार चले
चले भी आओ कि गुलशन का करोबार चले

क़फ़स उदास है यारो, सबा से कुछ तो कहो
कहीं तो बहर-ए-ख़ुदा आज ज़िक्र-ए-यार चले

कभी तो सुब्ह तेरे कुंज-ए-लब से हो आग़ाज़
कभी तो शब सर-ए-काकुल से मुश्क-ए-बार चले

Facebook पे हमारे पेज को लाइक करने के लिए क्लिक करिये

बड़ा है दर्द का रिश्ता, ये दिल ग़रीब सही
तुम्हारे नाम पे आयेंगे ग़मगुसार चले

जो हम पे गुज़री सो गुज़री मगर शब-ए-हिज्राँ
हमारे अश्क तेरी आक़बत सँवार चले

मक़ाम ‘फैज़’ कोई राह में जचा ही नहीं
जो कू-ए-यार से निकले तो सू-ए-दार चले

फै़ज़ अहमद ‘फै़ज़’

TOPPOPULARRECENT