Monday , December 11 2017

चारमीनार के करीब ट्रैफिक बहाव को आसान बनाने इन्हिदामी कार्रवाई

चारमीनार के करीब सड़कों की चौड़ाई का काम गुज़िश्ता दो बरसों से जारी है लेकिन सड़कों को वसीअ करते हुए ट्रैफिक बहाव को आसान बनाने का ये काम किसी ना किसी तरह रुकता जा रहा है। कभी मुआवज़ा की अदाएगी में ताख़ीर के मसअले पर इमारतों का इन्हिदाम र

चारमीनार के करीब सड़कों की चौड़ाई का काम गुज़िश्ता दो बरसों से जारी है लेकिन सड़कों को वसीअ करते हुए ट्रैफिक बहाव को आसान बनाने का ये काम किसी ना किसी तरह रुकता जा रहा है। कभी मुआवज़ा की अदाएगी में ताख़ीर के मसअले पर इमारतों का इन्हिदाम रुक जाता है तो कभी अदालतों में ज़ेरे दौरान मुक़द्दमात के नतीजे में काम को रोकना पड़ता है।

जी एच एम सी ज़राए का कहना है कि सड़कों को वसीअ करने के लिए जायदादों के हुसूल का अमल तो शुरू किया गया लेकिन जायदादों के कई मालिकीन को अब तक मुआवज़ा दिया जाना बाक़ी है। दूसरी जानिब उप्पूगुड़ा, छतरी नाका रोड पर भी सड़कों की कुशादगी का काम शुरू किया गया इस के बावजूद इस तंग सड़कों के दोनों जानिब इमारतों को मुनहदिम नहीं किया जा सका।

ऐसे में मोटर सैक़ल वालों को काफ़ी मुश्किलात का सामना करना पड़ रहा है। वाज़ेह रहे कि मई 2011 में मेयर माजिद हुसैन की इमा पर एक ख़ुसूसी इजलास तलब किया गया। जिस में बल्दी ओहदेदार और अवामी नुमाइंदों ने भी शिरकत की।

TOPPOPULARRECENT