Monday , December 18 2017

चारा घोटाला : जगदीश शर्मा को चार साल की सजा, चार लाख जुर्माना

चारा घोटाला (आरसी-34ए/96) के मामले में सीबीआइ के खुसुसि जज सीता राम प्रसाद की अदालत ने जुमा को मुल्ज़िम को सजा सुनायी। अदालत ने वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिये सजा सुनायी। सीबीआइ के खुसुसि अवामी प्रोसेक्यूटर शिव कुमार काका ने सीबीआइ की

चारा घोटाला (आरसी-34ए/96) के मामले में सीबीआइ के खुसुसि जज सीता राम प्रसाद की अदालत ने जुमा को मुल्ज़िम को सजा सुनायी। अदालत ने वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिये सजा सुनायी। सीबीआइ के खुसुसि अवामी प्रोसेक्यूटर शिव कुमार काका ने सीबीआइ की तरफ से बहस की। दीगर मुल्जिमान के वकील भी वहां मौजूद थे।

साबिक़ एमपी जगदीश शर्मा समेत दो अफसर, नौ सप्लाय करने वाला समेत 12 लोगों को सजा सुनायी गयी। जगदीश शर्मा को चार साल की सजा सुनायी गयी। वहीं चार लाख रुपये का जुर्माना लगाया गया। जुर्माना नहीं देने पर छह माह इजाफा जेल की सजा सुनायी गयी। सप्लाय करने वाला अमित कुमार को सबसे ज़्यादा पांच साल की सजा सुनायी गयी। वहीं 18 लाख रुपये का जुर्माना लगाया गया। सप्लाय करने वाला भानुकर दुबे को सबसे कम चार साल की सजा सुनायी गयी। वहीं 3.50 लाख रुपये का जुर्माना लगाया गया। पहली शिफ्ट में मुल्जिमान को मुजरिम करार दिया गया। दूसरी शिफ्ट में दिन के तीन बजे जस्टिस सीताराम प्रसाद वीडियो कांफ्रेंसिंग हॉल में गये। होटवार जेल में पहले से तमाम मुल्ज़िम मौजूद थे। तमाम का नाम एक-एक कर पुकारा गया। मुल्ज़िम सामने आते गये और उन्हें सजा सुनायी गयी। आधे घंटे के अंदर तमाम को सजा सुना दी गयी।

चारा घोटाला एक नजर में

गैर कानूनी इंखिला : एक करोड़ 16 लाख, 93 हजार, 462 रुपये
सीबीआइ की तरफ से वकील -शिवकुमार काका,
सनाह – 28-2-1996
इल्ज़ाम खत- 9-6-1998
इल्ज़ाम तशकील : 14-7-2003
टोटल मुल्ज़िम – 30
मर गए –छह
सरकारी गवाह-दो
जुर्म कुबूल किया-दो
फरार का ऐलान –एक
सीबीआइ गवाह- 78
बचाव फरीक़ के गवाह -06
तहक़ीक़ात अफसर -एसएमएस चौहान व एचआइओ अभय सिन्हा
सजा सुनायी गयी-19

53 में से 46 मुक़दमात की कारकरदगी

सीबीआइ के खुसुसि लोक अभियोजक शिव कुमार काका ने बताया कि आरसी-34 ए/96 के करकरदगी के साथ अब तक 46 मुक़दमात का बहम हो गया। अब सिर्फ सात मुक़दमात का बहम बाकी रह गया है। आरसी-54 ए/96 में बचाव फरीक़ का बहस चल रहा है, जबकि आरसी-64 ए/96 में मुल्जिमान का बयान दर्ज किया जा रहा है।

किन्हें कितनी सजा और जुर्माना

नाम सजा जुर्माना
डॉ शशि सिन्हा पांच साल 10.50 लाख रुपये
डॉ अजीत सिन्हा पांच साल 10.50 लाख रुपये
भानुकर दुबे चार साल 3.50 लाख रुपये
महेंद्र प्रसाद पांच साल 15 लाख रुपये
ज्योति झा चार साल 6 लाख रुपये
उमेश दुबे चार साल 6 लाख रुपये
बीपी सिन्हा चार चाल 9 लाख रुपये
अमित कुमार पांच साल 18 लाख रुपये
सुभाषिश देव चार साल 4.50 लाख रुपये
चंद्रशेखर दुबे चार साल 6 लाख रुपये
बीपी प्रसाद पांच साल 5 लाख रुपये
जगदीश शर्मा चार साल चार लाख रुपये

TOPPOPULARRECENT