Thursday , December 14 2017

चार आर टी आई कमिशनरों के तक़र्रुर की इजाज़त

हैदराबाद । (सियासत न्यूज़) मर्कज़ी इलेक्शन कमीशन ने रियासत में क़ानून हक़ ए मालूमात (आर टी आई) कमिशनरों के चार ओहदों पर तक़रुरात अमल में लाने(अपोइंट करने) के लिए रियास्ती हुकूमत को ग्रीन सिगनल दे दिया है।

हैदराबाद । (सियासत न्यूज़) मर्कज़ी इलेक्शन कमीशन ने रियासत में क़ानून हक़ ए मालूमात (आर टी आई) कमिशनरों के चार ओहदों पर तक़रुरात अमल में लाने(अपोइंट करने) के लिए रियास्ती हुकूमत को ग्रीन सिगनल दे दिया है।

इस सिल्सिले में मर्कज़ी इलेक्शन कमीशन ने रियास्ती चीफ़ इलेक्ट्रोर‌ल ऑफीसर को हिदायत जारी करदी है जब्कि गुज़शता(पीछ्ले) दिनों रियास्ती चीफ़ सेक्रेटरी मिस्टर पंकज दीवेदी ने क़ानून हक़ ए मालूमात के चार कमिशनरों के तक़र्रुरात‌ अमल मैं लाने(अपोइंट) से मुताल्लिक़ ज़िम्नी इंतेख़ाबी ज़ाब्ता अख़लाक़ की अमल आवरी को पेश नज़र(उप चुनाव के उसूल व कवाइद को साम्ने) रखते हुए रियास्ती चीफ़ इलेक्ट्रोर‌ल ऑफीसर से इजाज़त तलब की(मांगी) थी, जिस की रोशनी में रियास्ती सी ई ओ ने इस मस्लें को मर्कज़ी इलेक्शन कमीशन से रुजू कर दिया(को पेश किया) था और मर्कज़ी इलेक्शन कमीशन ने इस मस्लें पर संजीदगी के साथ ग़ौर करते हुए कमिशनर‌ क़ानून हक़ ए मालूमात के तक़र्रुरात के लिए रियास्ती हुकूमत को इजाज़त देने की गुज़शता शब(पीछ्ली रात) रियास्ती चीफ़ इलेक्ट्रोरल‌ ऑफीसर को हिदायत दी।

आज शाम रियास्ती सेक्रीटेट में इन से मुलाक़ात करने वाले सहीफ़ा निगारों(संवाददाताओं) से ग़ैर रस्मी(निजि) बातचीत करते हुए मिस्टर भंवरलाल रियास्ती चीफ़ इलेक्ट्रोर‌ल ऑफीसर ने इस बात का इन्किशाफ़(को जाहिर) किया और बताया कि रियासत में आइन्दा माह(अगले महिने) 12 जून को 18 असेंबली हलक़ा जात और एक लोकसभा हलक़ा के लिए मुनाक़िद होने वाले ज़िम्नी इंतेख़ाबात के इंतेज़ामात का जायज़ा लेने के लिए मर्कज़ी इलेक्शन कमिशनर मिस्टर एच एस ब्रह्मा ने 12 अज़लों के डिस्ट्रिक्ट कलेक्टर‌, डिस्ट्रिक्ट उच्च अधीकारी, आफ़ पुलिस के साथ वीडीयो कान्फ़्रैंस से ख़िताब(ब्यान) किया और इंतेज़ामात से मुकम्मल वाक़फ़ीयत(खबर) हासिल करके मुसर्रत का इज़हार किया(खूशी जाहिर किथी)।

उन्हों ने बताया कि जिन चार कमिशनर‌ क़ानून हक़ ए मालूमात के तक़र्रुरात‌ किए जाएंगे इन में एम रतन, एस प्रभाकर रेड्डी (रिटायर्ड आई पी एस), सी मधूकर राज (रिटायर्ड आई एफ़ एस) और वीजय‌ बाबू जर्नलिस्ट शामिल हैं।

TOPPOPULARRECENT