Tuesday , December 19 2017

चीन का जारिहाना मौक़िफ़ बरक़रार

लीहा, 02 मई: चीन की फ़ौज ने जारिहाना मौक़िफ़ बरक़रार रखा और दौलत बैग ओलडी (डी बी ओ) सैक्टर से दस्तबरदारी का कोई इशारा नहीं मिल रहा है। इस के बरअक्स यहां क़ायम तमाम पाँच ख़ेमों के लिए ट्र‌क्स के ज़रिये रसद पहुंचाई जा रही है। मर्कज़ी विज़ारत-ए-

लीहा, 02 मई: चीन की फ़ौज ने जारिहाना मौक़िफ़ बरक़रार रखा और दौलत बैग ओलडी (डी बी ओ) सैक्टर से दस्तबरदारी का कोई इशारा नहीं मिल रहा है। इस के बरअक्स यहां क़ायम तमाम पाँच ख़ेमों के लिए ट्र‌क्स के ज़रिये रसद पहुंचाई जा रही है। मर्कज़ी विज़ारत-ए-दाख़िला को रवाना की गई रिपोर्ट्स के मुताबिक़ चीन की फ़ौज हिन्दुस्तानी इलाक़े में 19 किलो मीटर के अंदर गश्त भी कर रही है। इस तरह तीन हफ़्ते से जारी तात्तुल ख़त्म होने के कोई आसार नज़र नहीं आरहे हैं।

मंगल को बरीगीडीर सतह की बातचीत नाकाम होगई। जिस के बाद हिन्दुस्तान ने इस इलाक़े में बिना पायलेट वाली फ़िज़ाई गाड़ियों के ज़रिये चौकसी में इज़ाफ़ा कर दिया है। हिन्दुस्तानी फ़ौज ने इत्तेला दी कि यहां मौजूद चीनी फ़ौज को ट्र्क्स के एक क़ाफ़िले के ज़रिये रसद फ़राहम की गई है। डी बी ओ सेक्टर के इस इलाक़े में मौजूद पाँच ख़ेमों में तक़रीबन 40 चीनी सिपाही क़ियाम किए हुए हैं।

कल हुए इजलास में चीन ने अपना ये मौक़िफ़ ज़ाहिर किया है कि डी बी ओ एस का इलाक़ा है और हिन्दुस्तान को अपने दावे से दस्तबरदार होजाना चाहिए। लेकिन हिन्दुस्तान ने उसे सरहदी मुआहिदा की ख़िलाफ़वरज़ी क़रार दिया और चीन से इस इलाक़े से दस्तबरदार होजाने पर ज़ोर दिया।

TOPPOPULARRECENT