Saturday , December 16 2017

चीन की सरहद पर कसीर फ़ौज की तैनाती, पड़ोसी ममालिक को तशवीश

बीजिंग, ०३ नवंबर (एजेंसीज़ पी टी आई) चीन के दूसरे हलाकत ख़ेज़ लड़ाका जेट तैय्यारा ( विमान) की जारीया हफ़्ता निक़ाब कुशाई चीन को एक बरतर( श्रेष्ठ) इलाक़ाई फ़ौजी ताक़त में तबदील करने के प्रोग्राम का एक हिस्सा है। एशियाई सयानत के एक माहिर ने आ

बीजिंग, ०३ नवंबर (एजेंसीज़ पी टी आई) चीन के दूसरे हलाकत ख़ेज़ लड़ाका जेट तैय्यारा ( विमान) की जारीया हफ़्ता निक़ाब कुशाई चीन को एक बरतर( श्रेष्ठ) इलाक़ाई फ़ौजी ताक़त में तबदील करने के प्रोग्राम का एक हिस्सा है। एशियाई सयानत के एक माहिर ने आज कहा कि लड़ाका तय्यारा ( लड़ाकू विमान) जे 31 की अव्वलीन परवाज़ चहार शंबा के दिन चीन के शुमाल मशरिक़ी सूबा में एक फ़ौजी फ़िज़ाई अड्डा से, जो शीनयानग एयर क्राफ़्ट कारपोरेशन का तैयार करदा है, हुई थी।

सिडनी के इदारा लोवे के माहिर सयानत साम रोग्वेन के बमूजब ( मुताबिक) ये दूसरा नया लड़ाका डिज़ाइन का चीनी साख्ता तय्यारा ( विमान) है, जो गुज़श्ता दो साल में तैयार किया गया है। तकनीकी तरक़्क़ी के ऐतबार से ये इंतिहाई मुतास्सिर कुन है और चीन को यक़ीनन इस के इलाक़ाई पड़ोसीयों पर बरतरी(श्रेष्ठता)फ़राहम करेगा।

चीनी फ़ौज के बमूजब ( मुताबिक) उनकी कोशिशें समर आवर साबित हो गई हैं। जो तय्यारा (विमान) अब देखा जा रहा है, 90 की दहाई के आग़ाज़ में उस की तामीर शुरू की गई थी। उस की तकमील (समाप्ति/पूर्ती) के बाद चीन सफ़ अव्वल की इलाक़ाई फ़ौजी ताक़त बन गया है।

चीन की वज़ारत-ए-दिफ़ा ने सयान्ती माहिर के तब्सिरा पर कोई रद्द-ए-अमल ज़ाहिर करने से इनकार कर दिया। चीन की फ़ौजी सलाहीयतें अमेरीका से हनूज़ (अभी भी) बहुत पीछे हैं और चीन शिद्दत से अपनी ताक़त में इज़ाफ़ा की कोशिश कर रहा है। सितंबर में यूक्रेन से पहला तय्यारा बर्दार बहरी(समुद्री) जंगी जहाज़ ख़रीदा गया था।

सरहदी इलाक़ा में चीनी फ़ौज की कसीर (ज़्यादा)तादाद में तैनात होने से पड़ोसी ममालिक बेचैन हो गए हैं, क्योंकि चीन अपनी फ़ौजी ताक़त का मुज़ाहरा (प्रदर्शन) कर रहा है। ख़ास तौर पर मशरिक़ी बहर-ए-चीन में जापान, वयतनाम और फ़िलीपीन के साथ इलाक़ाई तनाज़ा(झगड़े) के पेशे नज़र उन की बेचैनी फ़ित्री है।

अमेरीकी एफ़ 22 और एफ़ 35 जैसे असरी लड़ाका तैय्यारों ( लड़ाकू विमानो) की तरह चीनी जे 20 और जे 31 भी उस की आइन्दा फ़ौजी कार्यवाईयों में अहम किरदार अदा करेंगे। हफ़तावार एवीयेशन वर्ल्ड के साबिक़ नायब मुदीर ने रोज़नामा ग्लोबल टाईम्स से कहा कि जे 31 यक़ीनन फ़ौजी कार्यवाईयों के मक़सद से तैयार किया गया है, क्योंकि इसका अगला हिस्सा दो पहीयों पर सहारा गया है और इस के अक़बा हिस्सा में भी दो बाज़ू हैं, जिन से उसकी मुतवाज़ी ( समानांतर/ सह चलन) सतह पर क़ायम रहने की ताक़त मुस्तहकम ( मजबूत) हो गई है।

ये एक औसत जसामत का लड़ाका तैय्यारा है, जिस में रूसी साख़ता इंजन नसब किए (लगाए) गए हैं, जिन्हें बाद में चीनी साख़ता इंजन नसब करते हुए तबदील कर दिया जाएगा। चीनी फ़िज़ाई हदूद(क्षेत्र) इसका कमज़ोर पहलू समझे जाते हैं, जिस की वजह से इन दोनों असरी लड़ाका तैय्यारों की ग़ैर मुल्की टेक्नोलाजी के साथ तैय्यारी ज़रूरी हो गई थी।

इन तय्यारों ( विमानो) से चीन की जारिहाना और दिफ़ाई (हिफाजती/ बचाव) सलाहीयत कई साल आगे पहुंच जाएगी, जब कि उन्हें चीनी फ़िज़ाईया में तैनात किया जाएगा। पी टी आई की इत्तिला के बमूजब (मुताबिक) चीन और पाकिस्तान ने आज मुख़्तलिफ़ शोबों में चीन के साथ तआवुन के मौज़ू(विषय) पर पांचवीं मरहला के दिफ़ाई मुज़ाकरात मुनाक़िद किए।

उनकी एहमीयत इसलिए भी ज़्यादा हो गई है, क्योंकि अगले हफ़्ता चीनी क़ियादत तबदील हो जाएगी। बातचीत में मोतमिद ख़ारिजा पाकिस्तान और नायब वज़ीर-ए-ख़ारजा चीन ने शिरकत की। ये हिंदूस्तान के लिए भी बाइस तशवीश (चिंताजनक) है, जो अपने दोनों पड़ोसी ममालिक चीन और पाकिस्तान से ख़ुशगवार ताल्लुक़ात के अहया का ख़ाहां है।

TOPPOPULARRECENT