Thursday , December 14 2017

चीन पर आर्थिक निर्भरता पाकिस्तान के लिए खतरनाक

पाकिस्तान को अपनी आर्थिक स्थिति पर चिंता करनी चाहिए| उसकी बाहरी वित्त स्थिति कुछ ठीक नहीं है| बाहरी आर्थिकता पर निर्भर रहना भी ठीक नहीं हैं खास तौर पर आर्थिक निर्भरता चीन पर ज़्यादा नहीं रखनी चाहिये ये ख़तरनाक है| किसी ने सोचा होगा कि चीन और पाकिस्तान के बीच ट्रिलियन डॉलर बेल्ट रोड इनिशिएटिव का एक और अतिप्रवाह बाहरी खाता होगा| अभी तक चीन पाकिस्तान आर्थिक कोरिडोर का आर्थिक परिणाम का बुरा हाल रहा है| हाल ही में विश्व बैंक ने पाकिस्तान को चेतावनी दी है कि उसे आने वाले साल में बाहरी वित्त संकट का सामना करना पड़ सकता है| उन्होंने कहा कि चालू खाते और ऋण के भुगतान के लिए देश को 17 अरब डॉलर की आवश्यकता होगी देश के केन्द्रीय बैंक और स्टेट बैंक ऑफ़ पाकिस्तान ने पहले ही देश को चेताया था | उन्होंने कहा कि 2016-17 के वित्तीय वर्ष में चालू खाता से काफी घाटा हुआ था| जो कि 12 अरब डॉलर से 5 अरब डॉलर पहुँच गया था|

पाकिस्तान का विदेशी मुद्रा भंडार और व्यापार के आकड़ों पर विचार करना चाहिए| पाकिस्तान का सितम्बर से अब तक विदेशी मुद्रा घटकर 13.8 अरब डॉलर हो गया है| जो शायद पिछले कुछ सालों में से सबसे कम है| उन्होंने कहा कि चीन के साथ कनेक्टिविटी में सुधार के कारण आयात में बढ़ोत्तरी हुई है|  इसका व्यापार घाटा नाटकीय रूप से बढ़ गया है। जबकि चीन देश में प्रत्यक्ष विदेशी निवेश का सबसे बड़ा स्रोत है, जब यह महसूस होता है कि पिछले वर्ष पाकिस्तान ने कुल 2 अरब डॉलर एफडीआई आकर्षित किया था।

यह देश का पांच या छह साल में सबसे कम है यहाँ तक की आधे से भी कम | विदेशी निवेश की कमी कुछ आश्चर्य की बात है। यहां तक ​​कि चीन के 800 मिलियन डॉलर से अधिक निवेश प्रवाह किया था शायद ही आंखों से भरे हुए हैं। पाकिस्तान की वित्तीय स्थिति के कई कारण हैं। पाकिस्तान काफी लम्बे समय से अर्जित हो रही विदेशी मुद्रा पर निर्भर रहा है| लेकिन अब वह जो फारस की खाड़ी से अ रही अर्थव्यवस्थाओं की धीमी गति से आधा हो गया हैं। इसमें से कुछ खाड़ी राज्यों के प्रतिबंध का भी असर है| लेकिन जो सबसे अधिक कह रहे हैं वह विदेशी पूंजी को आकर्षित करने के गंभीर प्रयासों की कमी है।  पाकिस्तान की स्थापना ने निष्कर्ष निकाला है कि सीपीईसी उनकी सभी आर्थिक जरूरतों के लिए उपलब्ध कराएगा और इसलिए, उनकी अर्थव्यवस्था को सुधारने के कड़ी मेहनत की ज़रूरत नहीं है। उदाहरण के लिए, पाकिस्तानी रुपयों को दुर्घटनाग्रस्त होने से बचाने के लिए|

इस साल चीन अकेले दो बार 1.4 अरब डॉलर उधार लिया। प्रश्न यह है कि बीजिंग कितना उदार होना चाहिए या फिर बदले में किस कीमत का लाभ उठाएगा।पाकिस्तान की स्थापना ने निष्कर्ष निकाला है कि सीपीईसी अपनी सभी आर्थिक जरूरतों के लिए प्रदान करेगा और उनको वास्तव में उनकी अर्थव्यवस्था में सुधार के कड़ी मेहनत की ज़रूरत नहीं है

 

शरीफ़ उल्लाह

TOPPOPULARRECENT